शारीरिक शिक्षा

जागरणसंवाददाता,धनबाद:रांचीकेझारखंडयूनिवर्सिटीऑफटेक्नोलॉजीऑडिटोरियममेंशुक्रवारको'नेशनलप्रोग्राममीऑनटेक्नोलॉजीइनहैंसलर्निंग'(एनपीटीइएल)विषयपरकार्यशालाकाआयोजनकियागया।कार्यशालामेंबीबीएमकोयलांचलविश्वविद्यालयकेप्रोवीसीडॉअनिलकुमारमहतो,रूसाकेइंस्टीट्यूशनलकोऑर्डिनेटरडॉप्रवीणसिंहऔररूसाकेपीकेरॉयकॉलेजकेनोडलऑफिसरडॉडीकेचौबेशामिलहुए।

वर्कशॉपकेविषयमेंजानकारीदेतेहुएडॉप्रवीणसिंहनेबतायाकिवर्कशॉपकामुख्यउद्देश्यमैसिवओपनऑनलाइनकोर्स(एमओओसीएस)औरएनपीटीईएलकास्वयं(फ्रीऑनलाइनएजुकेशन)मेंरोलकोबतानाथा।साथहीझारखंडकेविभिन्नहिस्सोंमेंस्थितकॉलेजोंमेंस्वयंकालोकलचैप्टरशुरूकरनेकेविषयमेंभीजानकारीदीगई।डॉप्रवीणनेबतायाकि2030तकभारतसहितपूरेविश्वमेंशिक्षाकास्वरूपपूरीतरहबदलजाएगा।किताबें,बहुमंजिलाइमारतेंऔरलाखोंकीफीसजैसीचीजेंनहींरहेंगी।ऐसेमें'स्वयं'आनेवालेसमयमेंशिक्षककेबड़ेअवसरकेरूपमेंस्थापितहोगा।इसकेमाध्यमसेघरबैठेहीऑक्सफोर्ड,कैंब्रिज,हावर्डजैसेविश्वकेसर्वोत्तमविश्वविद्यालयसेशिक्षाप्राप्तकरनेकीसुविधाहोगी।इसकेलिएयूरोपएवंअमेरिकानहींजानापड़ेगा।छात्रघरबैठेहीकंप्यूटरपरहीसारीशिक्षापासकेंगे।