शारीरिक शिक्षा

लॉकडाउन-3मेंमिलेढीलकेबाददूसरेराज्योंमेंरहरहेमजदूरोंकीवापसीश्रमिकस्पेशलट्रेनकेजरिएकराईजारहीहै।लेकिनकईलोगऐसेहीहैजोअपनेसाधनसेघरवापसीकररहेहैं।पश्चिमबंगालकेफरक्कानिवासीगोविंदाभीबेहतरकलकीउम्मीदलिएऐसेहीसफरपरहै।

वैश्विकमहामारीकोरोनाकेसंक्रमणसेबचावकोलेकरदेशमेंलगाएगएलॉकडाउनसेत्रस्तमजदूरोंकाअपनेघरकीओरपलायनजारीहै।लॉकडाउनकेतीसरेटर्ममेंमिलीढीलकेबादकईराज्योंसेस्पेशलट्रेनचलवाकरलोगोंकोअपनेघरपहुंचायाजारहाहै।हालांकिइसबीचकईऐसेभीलोगहैजोअपने-अपनेसाधनसेबेहतरकलकीउम्मीदलिएअपनेघरजारहेहैं।आजबिहारजमुईजिलेमेंएकऐसेप्रवासीमजदूरसेहमारीमुलाकातहुई।येप्रवासीअपनेबीबी-बच्चोंकेसाथदिल्लीसेफरक्कालौटरहाहै।

जमुईकेसिकंदराचौकपरजबहमनेइन्हेंदेखातोरिक्शेपरलदासामानऔरचालककीस्थितिदेखहैरानीहुई।फिरउनसेबातचीतकीतोपताचलाकिलॉकडाउननेकिसकदररोजकमानेखानेवालेलोगोंकीजिंदगीखराबकीहै।रिक्शाचालकनेअपनानामगोविंदामंडलबताया।गोविंदापश्चिमबंगालकेफरक्काकेरहनेवालेहैं।दिल्लीकेबागपतइलाकेमेंराजमिस्त्रीकाकामकियाकरतेथे।लेकिनलॉकडाउनकेबादरोजी-रोटीछिनगईतोजैसे-तैसेवहांगुजाराकररहेथे।जबभूखमरीकीस्थितिआनपड़ीतोघरवापसीकासोचा।

लेकिनघरवापसीकाकोईसाधननहींमिलतादेखगोविंदानेरिक्शेसेघरजानेकीठानी।इन्होंने4800रुपएमेंएकरिक्शाखरीदा।उसपरसारासामानलादा।फिरपत्नीसुलेखामंडलऔर1वर्षीयबच्चेकोसाथलेकरदिल्लीसेफरक्काकी16सौकिलोमीटरकीयात्रापरनिकलपड़े।गोविंदानेबतायाकि13दिनोंमेंवेयहांपहुंचेहैं।मतलब13दिनमें1300किलोमीटरकीसफरगोविंदानेतयकरलिया।कल्पनाकीजिएबिनाप्रतिदिन100kmरिक्शाचलाना,वोभीपूरेपरिवारकेसाथअनजानीसड़कपरकितनाकष्टप्रदरहाहोगा।

गोविंदानेबतायाकिलॉकडाउनलगनेसेपहलेएकमहीनेमेंउसने16हजाररुपयेकीकमाईकी।लॉकडाउनलगनेकेबादग्यारहहजाररुपयेखाने-पीनेमेंखर्चहोगए।शेषबचेपांचहजाररुपयेमें48सौमेंरिक्शाखरीदाऔरअपनेपत्नीएवंछोटेबच्चेकोबिठाकरदिल्लीकेबागपतनगरसेअपनेघरफरक्काकेसब्दलपुरकेलिएनिकलेहैं।13दिनोंकेबादशनिवारकोसिकंदरापहुंचाजहांसिकंदरापुलिसएवंग्रामीणोंकेसहयोगसेखाने-पीनेकीसामग्रीएवंकुछराशिदीगई।वहीरास्तेमेंइनकोकईकठिनाइयोंकासामनाभीकरनापड़ा।आंधी-पानीसेबचतेहुएपत्नीवबच्चेकेसाथबेहतरकलकीउम्मीदलिएघरजारहेहैं।

By Daniels