शारीरिक शिक्षा

नयीदिल्ली,28सितंबर(भाषा)दिल्लीउच्चन्यायालयनेसोमवारकोजेलप्रशासनसेपूछाकियदिजमानतविस्तारकेआदेशवापसलेलिएजाए,तोक्याउनकेपासजमानतअवधिखत्महोनेकेबादजेललौटनेवालेसभीकैदियोंकेलिएपर्याप्तसंख्यामेंपृथकवार्डहैं।उच्चन्यायालयनेजेलप्रशासनसेराष्ट्रीयराजधानीकीतीनजेलोंमेंकोविड-19मामलोंकीसंख्या,जमानतपरबाहरगयेकैदियोंकीसंख्याऔरअगलेमहीनेआत्मसमर्पणकरनेवालेकैदियोंकीसंख्याऔरप्रत्येकजेलोंमेंपृथकवार्डोंकीसंख्याकेसंबंधमेंजानकारीमांगीहै।उच्चन्यायालयनेदिल्लीमेंकोविड-19मामलोंमेंवृद्धिपरभीचिंताव्यक्तकीहै।मुख्यन्यायाधीशडीएनपटेलऔरन्यायमूर्तिसिद्धार्थमृदुलऔरन्यायमूर्तितलवंतसिंहकीपीठनेउच्चन्यायालयके13जुलाईऔर24जुलाईकेआदेशोंकोसंशोधितकरनेकेलिएदायरएकअर्जीकीसुनवाईकरतेहुएयहआदेशदिया।पिछलेआदेशमें16मार्चकेपहलेयाउसकेबादअंतरिमजमानत/पैरोलपरगयेसभीकैदियोंकोराहतदीगईथी।याचिकामेंकहागयाकिकैदीउनदोनोंआदेशोंकादुरुपयोगकररहेहैं,वेपारिवारिकबीमारीयाकुछअन्यकारणोंसेजमानतमांगरहेहैंऔरफिरउच्चन्यायालयकेनिर्देशकेआधारपरइसेबढ़ानेमेंसफलहोरहेहैं।उच्चन्यायालयनेकहाकिवहअपनेआदेशोंकादुरुपयोगनहींहोनेदेगाऔरयदिइसकादुरुपयोगकियाजारहाहैतोवहअपनेविस्तारकेआदेशकोवापसलेलेगा।पीठनेकहा,‘‘अगरवे(कैदी)इसकादुरुपयोगकररहेहैं,तोहमइसेरोकदेंगेऔरफिरउन्हेंभुगतनाहोगा।’’अदालतनेजेलअधिकारियोंसेपूछाकिअगरजमानतअवधिबढ़ानेकेआदेशवापसलिएजातेहैंतोक्याउनकेपासवापसआनेवालेकैदियोंकेलिएपर्याप्तसंख्यामेंपृथकवार्डहैं।पीठनेकहा,‘‘(दिल्लीमें)मामलोंमेंकाफीउछालआयाहै।हमवास्तवमेंइसकोलेकरचिंतितहैं।’’उच्चन्यायालयनेकारागारमहानिदेशक(डीजी)कोभीनोटिसजारीकिया,जोराष्ट्रीयराजधानीमेंतीनोंजेलों-तिहाड़,रोहिणीऔरमंडोलीकेप्रभारीहैं।मामलेकीअगलीसुनवाई16अक्टूबरकोहोगी।