शारीरिक

बक्सर:इससमयकोरोनामहामारीकोलेकरदेशमेंलॉकडाउनहै।ताकि,संक्रमणकोरोकाजासके।लेकिन,मजूदरोंकीलाचारीसाफदिखाईदेरहीहै।गुरुवारकीदोपहरकरीबआधादर्जनमजदूरआरासेउत्तरप्रदेशकेइलाहाबादजानेकेलिएपैदलहीनिकलगएथे।भूखे-प्यासेलोगोंकीलाचारीचेहरोंपरसाथझलकरहीथी।सड़कमार्गसेपकड़ेजानेकेडरसेवेलोगरेलवेलाइनपकड़करअपनेगांवकेलिएरवानाहोगए।

जबइनमजदूरोंकोरोककरपूछताछकीगईतोउन्होंनेबतायाकिबरौनीपाइपलाइनमेंमजदूरीकरतेथे।लेकिन,लॉकडाउनमेंफंसजानेकेचलतेमजदूरीभीबंदहोगई।वहीं,संबंधितठेकेदारद्वाराखानाखिलानेसेभीइंकारकरदियागया।जिससेइनमजदूरोंकेपासखानेकेभीलालेपड़गएथे।मजदूरोंनेकहाकिबुधवारकोहमलोगआरासेचलेहैं।रघुनाथपुरस्टेशनपररातगुजारे।वहांग्रामीणोंकेसहयोगसेखानामिलपाया।इनमजदूरोंकोपैदलजातेदेखलोगोंनेफलतथापानीभराबोतलदिया।जिससेमजदूरोंकोथोड़ीराहतमिली।टुड़ीगंजस्टेशनकेपश्चिमीरेलवेक्रॉसिगपरपहुंचेतोथककरचूरहोगएथे।इनकीबेबसीसाफबयांहोरहीथी।मजदूरोंनेकहाकिहमलोगकिसीतरहअपनेगांवचलेजाएंगे।हालांकि,पैदलजानेकेअलावादूसराकोईउपायनहींहै।अगरखाने-पीनेकीसुविधाहोतीतोअभीगांवजानेकीजरूरतनहींथी।इनमजदूरोंकाकहनाथाकियहींआखिरीरास्ताबचाहैकिकिसीतरहअपनेगांवपहुंचजाएं।

By Cooper