शारीरिक शिक्षा

जिलामुख्यालयसेसटेरहिकाप्रखंडकेशंभूआरगांवमेंपिडीस्वरूपअंकुरितभगवतीविराजमानहैं।श्रद्धालुओंकेअसीमआस्थाकाकेंद्रअंकुरितभगवतीकीपूजा-अर्चनाकेलिएदुर्गापूजाकेमौकेपरदूरदराजसेलोगयहांपहुंचतेहैं।इतिहासशंभूआरअंकुरितभगवतीमंदिरकाइतिहासकरीबदोसौवर्षपुरानाबतायाजारहाहै।कहतेहैंकि200वर्षपूर्वजहांवर्तमानमेंअंकुरितभगवतीकामंदिरअवस्थितहैउसजगहपरकिसीग्रामीणद्वाराखुदाईकीजारहीथी।उसीसमयखुदाईकेदौरानजमीनसेपिडीस्वरूपएकशिलापटनजरआया।खुदाईकरनेवालेग्रामीणद्वाराइसकीजानकारीगांवकेअन्यलोगोंकोदीगई।फिरग्रामीणोंकोजुटनेसेपताचलाकियहअंकुरितभगवतीकास्वरूपहै।विशेषतावर्ष1980तकखपड़ैलनुमामंदिरमेंअंकुरितभगवतीकीपूजा-अर्चनाचलतीरही।वर्ष1981सेअंकुरितभगवतीपरिसरकेविकासकासिलसिलाशुरूहुआ।अंकुरितभगवतीमंदिरकातीनकरोड़कीलागतसेनवनिर्माणकरायागया।इसपरिसरमेंतालाबकानिर्माणकरायागया।मंदिरकेनिकटहीभगवानशंकर,श्रीराम-जानकीतथाहनुमानमंदिरकाअलग-अलगमंदिरऔरयज्ञमंडपकानिर्माणभीकरायागया।समयकेसाथअंकुरितभगवतीकीमहिमाचहुंओरफैलनेलगी।

'अंकुरितभगवतीकीपूजा-अर्चनासेभक्तोंकीमनोकामनाएंनिश्चितरूपसेपूर्णहोतीहैं।दुर्गापूजाकेमौकेपरयहांभक्तोंकीभारीभीड़होतीहैं।श्रद्धालुओंकीसुविधाकेलिएसेवादलोंकीतैनातीहोतीहै।'

-गणेशसिंह,पुजारी

फोटो5एमडीबी23'अंकुरितभगवतीकीकृपासदैवभक्तोंपरबनीरहतीहै।अंकुरितभगवतीमंदिरआनेवालेश्रद्धालुखालीहाथनहींलौटते।मंदिरपरिसरमेंअसीमशांतिकीप्राप्तिहोतीहै।मंदिरपरिसरकीस्वच्छताकाख्यालरखाजारहाहै।'

-सदानंदकुमार,समाजसेवी

By Dale