शारीरिक शिक्षा

जागरणसंवाददाता,फरिहां(आजमगढ़):बच्चोंऔरमाता-पिताकेबीचआपसीसंवादकितनाआवश्यकविषयपरफरिहांकीअनुसूचितजातिबस्तीमेंगोष्ठीकाआयोजनकियागया।वरिष्ठसमाजसेवीरीतातिवारीनेकहाकिप्रत्येकव्यक्तिअपनादायराबनाचुकाहै,जिससेवहबाहरनहींनिकलनाचाहताहै।बच्चाजबबड़ाहोरहाहोताहैतोउसकेमनमेंबहुतसेप्रश्नचलरहेहोतेहैं।जबउसकाजवाबमाता-पितासेनहींमिलता,तोवहअपनेदोस्तोंसेजानकारीकरताहै।नतीजाआधी-अधूरीवगुमराहकरनेवालीजानकारीमिलतीहै।इसमेंदोषकेवलबच्चेकानहींहै।ऐसेमेंबच्चेकोमाता-पिताकेसमयकीजरूरतहै।आपकाबच्चाक्याकररहाहै,इसकीजानकारीहोनीचाहिए।बेहतरपरवरिशकेलिएरोजसोनेसेपहलेबच्चोंसेकरीबआधाघंटाबातजरूरकरें।इसअवसरपरपिकी,खुशी,कुमकुम,गीता,रूबीआदिउपस्थितरहीं।

By Daniels