शारीरिक शिक्षा

अनिलझा।आजदुनियाभरमेंइसविषयपरगहनतासेचिंतनहोरहाहैकिजनसंख्यासंसाधनहैयासमस्या।निश्चितरूपसेयहगंभीरचिंतनकाविषयहै,खासकरभारतकेसंदर्भमेंतोयहबेहदगंभीरमामलाहै।इसबारेमेंहमेंइजरायलसेबहुतकुछसीखनाचाहिए।इजरायलमेंभूमिबहुतज्यादानहींहै।क्षेत्रफलकेलिहाजसेयहदेशहरियाणासेभीछोटाहै।लेकिनवहांकीआबादीलगभग90लाखहै।वैज्ञानिकशोध,कृषिउत्पादन,पर्यावरणसंरक्षण,शक्तिशालीसैन्यबल,स्वास्थ्यसुविधाएं,व्यवस्थितयातायात,शानदारपुलिसिंगजैसीव्यवस्थाएंइजरायलकोप्रगतिशीलबनानेकामाद्दारखतीहैं।

क्याभारतमेंहमकभीऐसीकल्पनाकरसकतेहैं?कईबुद्धिजीवीकहसकतेहैंभारतजैसेविशालदेशऔरविशालजनसंख्याकेकारणहमइजरायलसेइसकीतुलनानहींकरसकते,लेकिनहमयहतोमानतेहीहैंकिदेशकीआबादीयापरिवारकीसंख्याअगरछोटी,शिक्षितऔरव्यवस्थितहोतोवहदेशऔरपरिवारअत्यधिकतरक्कीकरताहै।हमयहभीजानतेहैंकिविश्वकीकुलभूमिकाभारतमेंमात्रढाईप्रतिशतहैऔरजनसंख्यालगभगविश्वकीकुलआबादीका18प्रतिशततकपहुंचगईहै।यहअत्यधिकचुनौतीपूर्णहै।भारतमेंअत्यधिकतेजीसेबढ़तीहुईजनसंख्याकेकारणशहरोंपरदबावबढ़गयाहै।

बढ़तीआबादीकाबोझग्रामीणक्षेत्रोंमेंउनकेलायकरोजगारनहींपैदाकरपाताऔरवेशहरोंकीओरपलायनकरतेहैं।लिहाजाअधिकांशशहरबेहदविकृतहोतेजारहेहैं।शहरसुव्यवस्थितहोनेकेबजायस्लमबस्तियोंमेंतब्दीलहोतेजारहेहैं।बढ़तीआबादीकाबोझशहरोंमेंबीमारियोंकाबोझभीबढ़ारहाहै।इसपूरेप्रकरणकाएकपहलूयहभीहैकिहमारेदेशमेंबढ़तीजनसंख्याकोधाíमकचश्मेसेदेखाजाताहै।देशमेंइसकेसकारात्मकऔरनकारात्मकदोनोंहीपहलूमौजूदहैं।

भारतमेंसिखमात्रतीनकरोड़हैं,लेकिनदेशमेंरोजानाअपनेगुरुद्वारोंकेमाध्यमसेवेपांचकरोड़लोगोंकोभोजनकरातेहैं।यहअपनेधर्मकेअनुशासन,श्रद्धाऔरमान्यताओंकेआधारपरहीहोसकताहै।सिखोंनेधाíमकऔरवैज्ञानिकदोनोंहीशिक्षाकामिश्रणकरतेहुएअपनीआबादीकोअत्यधिकशिक्षितऔरप्रगतिशीलबनायाहै।यहीमामलाजैनऔरपारसीसेभीजुड़ाहै।इनतीनोंसमुदायकेलोगअपनीजनसंख्यामेंपुरुषार्थकागौरवभरतेहैं,लिहाजादेशकेव्यापार,उद्योगऔरनिर्माणमेंअपनीमहत्वपूर्णभूमिकानिभातेरहेहैं।पारसीसमुदायकीसंख्याभारतमेंएकलाखकेआसपासहोगी,लेकिनभारतमेंवाहनउद्योग,ऊर्जाऔरस्टीलउत्पादनमेंइससमुदायकेलोगोंकाव्यापकयोगदानहै।भारतकेनिर्माणऔरउसकीप्रगतिमेंपारसीसमुदायकीअहमभूमिकाहै।

बढ़तीआबादीकिसीभीसमुदायकीहो,अगरवहसंविधानकेकायदे-कानूनकेअंतर्गतव्यवस्थितनहींहैतोउसदेशमेंसंसाधनोंकीलूटजैसीसमस्याएंपैदाहोनेकाप्रमुखकारणबनजातेहैं।ऐसीस्थितिमेंसंसाधनोंकीकमीहोनेकेकारणलोगएकदूसरेकेदुश्मनहोजातेहैं।सीरिया,लीबिया,दक्षिणसूडानऔरयमनजैसेदेशइसकाताजाउदाहरणहैं।बढ़तीआबादी,अशिक्षाऔरसंसाधनोंमेंअसमानताकेकारणमध्यऔरउत्तरीअफ्रीकाकेकुछदेशोंऔरमध्यएशियाकेदेशोंमेंसबसेज्यादाहिंसाहुई।संयुक्तराष्ट्रकीएकरिपोर्टकेअनुसारवर्ष1990से2010केमध्यजनसंख्यामें30प्रतिशतकीवृद्धिहुई।वर्ष2030तकविश्वकीआबादी8.6अरबहोनेकाअनुमानहै।इसदौरानभारतकीजनसंख्यामेंभीतेजीसेवृद्धहुईहै।ऐसेमेंभारतकेबेहतरभविष्यकेलिएअबयहजरूरीहोगयाहैकिजनसंख्यावृद्धिकोरोकनेकेलिएइसेकानूनकेदायरेमेंलायाजानाचाहिए।

[पूर्वविधायक,दिल्लीविधानसभावपूर्वछात्रसंघअध्यक्ष,दिल्लीविवि]

By Cooper