शारीरिक शिक्षा

संसू,बेड़ो:बेड़ोप्रखंडस्थितमहादानीमंदिरपरिसरमेंशनिवारकीसंध्यासातबजेऐतिहासिकहड़बोड़ीबूढ़ाजतरासंपन्नहोगया।इसदौरानजनजातीयपारंपरिकरीति-रिवाजकेअनुसारबेड़ोकेबुधवापाहनकीअगुवाईमेंकुंड़ीमेंपूर्वजोंकीस्मृतिमेंजलअर्पितकियागया।वापसघरपहुंचकरपाहनकेनेतृत्वमेंबेड़ोबस्तीसेविभिन्नखोड़हाकेलोगोंनेकलश,झडा,नगाड़ा,ढोल,ढाकवझडेकेसाथमहादानीमंदिरतकशोभायात्रानिकाली।गाजेबाजेकेसाथमहादानीमंदिरकीपरिक्रमाकरनेकेबादबुधवापाहननेमहादानीबाबाकीपूजा-अर्चनाकी।इसकेबादमंदिरकेगुंबदपरचढ़करवहाथपरआम्रपल्लवलेकरनाच-गानकरतेहुएपरंपराकानिर्वहनकिया।लोगोंमेंयहआस्थाहैकिअपनेखेतोंमेंलगीफसलकोकाटनेकेबादपहलेभगवानभोलेनाथमहादानीबाबाकोभोगकेरूपमेंनिवेदितकियाजाताहै।मान्यताहैकिइससेमहादानीबाबाप्रसन्नहोकरसुख,समृद्धिकाआशीर्वाददेतेहैं।इसदौरानमंदिरपरिसरमेंबेड़ो,तेतरटोली,टिकराटोली,गायत्रीनगर,अंबाटोलीकरंजटोली,कराजी,जामटोलीवबारीडीहगावकेलोगोंद्वारादीप,कलशवगाजेबाजेकीथापपरअपने-अपनेखोड़हाकेसाथनाच-गानप्रस्तुतकिया।वहीं,रानीगावबारीडीहकेलोगोंनेराजागावबेड़ोकेपाहन,पुजारमहतोसमेतअन्यलोगोंकास्वागतझडाबिछाकरऔरहुक्का-पानीदेकरकिया।आयोजनकोसफलबनानेमेंपुजारपंचमतिर्की,छोटापुजारशनिकाउराव,राकेशभगत,सुकाउराव,चरवाउराववबूदापाहनआदिकासराहनीययोगदानरहा।इसदौरानजतराकोलेकरबेड़ोमेंखासाउत्साहदेखागया।

By Cooke