शारीरिक शिक्षा

-ग्रामप्रधानकीपहलपरअस्थायीगो-आश्रयस्थलपरहुईव्यवस्था

-किशुनपुरमेंक्षमतासेज्यादारखेगएहैंगोवंश,विद्युतकीव्यवस्थानहीं

जागरणसंवाददाता,चक्रपानपुर(आजमगढ़):ठंडकाप्रकोपबढ़नेकेसाथगो-आश्रयस्थलोंपरभीअबबचावकेइंतजामशुरूकरदिएगएहैं।टीनशेडकेकिनारेपालीथिनलगानेकाकामशुरूकरदियागयाहै।किशुनपुरमेंइसकामकोपूराकरलियागयाहै।

यहांगो-आश्रयस्थलपरपशुओंकेलिएतीनटीनशेडबनाएगएहैं,जिसेपालीथिनसेघेरदियागयाहै,ताकिपशुओंकोठंडनलगे।यहांपरकुल219पशुरखेगएहैं,जबकिक्षमतामात्र120कीहीहै।व्यवस्थाकेनामपरतीनटीनशेड,दोभूसाघर,दोइंडियामार्काहैंडपंप,पानीकेलिएदोहौजतथासोलरलाइटकीव्यवस्थाकीगईहै।एकहैंडपंपखराबहै।यहांपानीकेलिएसबमर्सिबलभीहै,लेकिनबिजलीकाकनेक्शननहींहै।ग्रामप्रधानपतिअजयसिंहकाकहनाहैकिखुलेस्थानमेंगो-आश्रयहोनेकेकारणचारोंतरफसेहवाकाप्रवेशहोताहै।15नवंबरकेबादठंडभीशुरूहोगईहै।उन्होंनेबिजलीकनेक्शनकोलेकरविभागीयऔरप्रशासनिकउच्चाधिकारियोंकीउपेक्षापरनिराशाजताईहै।

By Daniels