शारीरिक शिक्षा

जागरणसंवाददाता,हरिद्वार:उत्तराखंडसंस्कृतअकादमीकीओरसेसंस्कृतकेप्रचार-प्रसारकेलिएश्रीमद्भागवतगीतामासमहोत्सवकेसमापनसमारोहमेंबतौरमुख्यअतिथिसंस्कृतशिक्षाकेसंयुक्तसचिववीरेंद्रपालनेकहाकिगीतास्वयंमेंहीपरिपूर्णहोनेकेसाथहीसभीविकारोंकोसमाप्तकरनेमेंसक्षमहै।संस्कृतभाषाकाविस्तारकरनाआवश्यकहैऔरजनमानसकीसमस्याकासमाधानशासनकीओरसेबनाएगएनियमोंकेअनुसारकियाजाएगा।सभीसंस्कृतअनुरागीअपनेकर्मकरेंतोफलभीमिलेगा।सभीसंस्कृतशिक्षार्थीमिलकरसमाजोपयोगीपाठ्यक्रमकानिर्माणकरे।

कार्यक्रमकीअध्यक्षताकरतेहुएशासनकेसंस्कृतशिक्षाकेअपरसचिवऔरअकादमीकेसचिवरमेशकुमारनेकहाकिभागवतगीताज्ञानकाभंडारहै।ज्ञानसभीमेंनिहितहैऔरकर्महीसर्वोच्चहै।उन्होंनेकहाकिज्ञानकेसाथकर्मनहोतोज्ञानबोझहोताहै।रमेशकुमारनेकहाकिअकादमीसंस्कृतकेप्रचार-प्रसारऔरसंवर्धनकेलिएकटिबद्धहैऔरनिरंतरकार्यकररहीहै।संस्कृतशिक्षानिदेशालयकेनिदेशकशिवप्रसादखालीनेकहाकिगीतामानवजीवनकोव्यवस्थितकरनेवालाशास्त्रहै।अकादमीकीओरसेजोकार्यकिएजारहेहैं,वहसराहनीयऔरऐतिहासिकहै।मुख्यवक्तापंडितब्रह्रामहरितोषनेकहाकिकलयुगमेंसरतलापूर्वकमुक्तिप्राप्तकरनेकेलिएएकहीशास्त्रहैऔरवोहैश्रीमद्भागवतगीता।उत्तराखंडसंस्कृतविश्वविद्यालयकेकुलसचिवगिरीशकुमारअवस्थीनेकहाकिगीताहमेंक‌र्त्तव्यमार्गपरचलनेकीप्रेरणादेतीहै।संस्कृतशिक्षाउत्तराखंडकेसहायकनिदेशकडा.वाजश्रवाआर्यनेकहाकिश्रीमद्भागवतगीताकावैभवलगभगपांचहजारवर्षसेपूर्वजितनाथा,उससेअधिकआजकेसमयमेंहोगयाहै।संचालनअकादमीकेशोधअधिकारीडा.हरीशचंद्रगुरुरानीनेकिया।डा.गुरुरानीनेबतायाकिउत्तराखंडसंस्कृतअकादमीकीओरसेगीताजयंतीकेउपलक्ष्यमें14दिसंबर2021से14जनवरी2022तकप्रदेशके13जिलोंमेंविविधविषयोंमेंश्रीमद्भागवतमासमहोत्सवकाआयोजनकियागयाथा।गीतामासमहोत्सवकातत्समयमेंकोविडसंक्रमणकेकारणसमापनसमारोहनहींहोपाया।इसलिएआजगीतामासमहोत्सवकासमापनसमारोहआयोजितकियागया।कार्यक्रममेंअकादमीकीप्रशासनिकअधिकारीलीलारावत,लेखाकारराधेश्याम,डा.अनिलकुमारत्रिपाठी,वेणीप्रसादआदिउपस्थितथे।

By Daly