शारीरिक शिक्षा

आगरा,जागरणसंवाददाता। तीनसालपहलेपिताकोखोनेकेबादभाइयोंकेलिएउनकीमांहीसबकुछथीं।तीनोंभाइयोंकीदुनियाऔरउनकीखुशियांमांकेइर्दगिर्दहीसिमटीहुईथीं।मगर,तकदीरकोअभीउनकाएकऔरइम्तिहानलेनाथा।कोरोनासंक्रमणकीदूसरीलहरकेप्रकोपनेउनसेमांकोभीछीनलिया।ऐसेमेंमौसीसहाराउनकासहाराबनीं।वहदोनोंभाइयोंकाभविष्यसंवारनेकीजद्दोजहदसेजूझरहीहैं।

कागारौलकेगांवनगलाकारेकेरहनेवालेपूर्वफौजीगिर्राजसिंहकीतीनसालपहलेबीमारीसेमौतहोगई।उनकीउम्रकरीब58सालथी।गिर्राजपत्नीऔरबच्चोंकोलेकरमथुरामेंमकानबनाकररहनेलगेथे।मगर,पतिकीमौतकेबादउर्मिलादेवीतीनोंबेटोंकोलेकरअपनेगांवलौटआईं।यहांअपनीबहनकेपासआकररहनेलगींथी।बड़ाबेटापिछलेसालसेनामेंभर्तीहोगया।वहट्रेनिंगपरचलागया।

उर्मिलादेवीकोअच्छेदिनोंहीआहटमहसूसहोनेलगीथी।मगर,किस्मतकोकुछऔरहीमंजूरथा।स्वजनकेअनुसारतीनमईकोउर्मिलादेवीमेंकोरोनाकेलक्षणदिखाईदिए।उन्हेंबुखारवसांसलेनेमेंदिक्कतहोनेकीशिकायतपरअस्पतालमेंभर्तीकराया।आक्सीजनकास्तरगिरनेसेसातमईकोउर्मिलादेवीनेदमतोड़दिया।इसकेबादउर्मिलादेवीकेदोनोंबच्चोंकीजिम्मेदारीचंद्रवतीदेवीउठारहीहैं।

उनकेपासजमीनकेनामपरसिर्फडेढ़बीघाखेतहै।इसकेबावजूदवहमांकीतरहअपनेऔरबहनकेपरिवारकीजिम्मेदारीउठारहीहैं।चंद्रवतीदेवीनेबतायाकिवहचाहतीहैंकिदोनोंबच्चोंकीपढ़ाईसरकारनिश्शुल्ककरदे।इससेकिवहउच्चशिक्षितहोकरअपनाभविष्यसंवारसकें।

चिताकोदागभीनदेसकाबेटा

स्वजननेबतायाकिसातमईकोमांउर्मिलादेवीकीमौतहुईतोबेटाजम्मू-कश्मीरमेंथा।वहमांकीचिताकोदागनदेसका।अंतिमसंस्कारकेअगलेदिनआगरापहुंचसका।