शारीरिक शिक्षा

निर्मलयादवनयीदिल्ली,15जनवरी(भाषा)यदिआपउसराज्यमेंरहरहेहैंजहांकेआपपंजीकृतमतदातानहींहैतोआपकोमतदानकेदिननिराशनहींहोनापड़ेगाक्योंकिचुनावआयोगऐसेमतदाताओंकोईवोटिंगकेजरियेमताधिकारप्रयोगकीसुविधादेनेकेविकल्पोंपरविचारकररहाहै।आयोगकीइसभावीपहलसेमतदानप्रतिशतबढ़ानेऔरचुनावसंपन्नकरानेकेखर्चमेंकमीआनेकेभीआसारहैं।आयोगइसकेलिएईवोटिंगकेजरिएदूरस्थमतदान(रिमोटवोटिंग)कीसुविधामुहैयाकरानेकेविकल्पोंकोविकसितकररहाहै।मुख्यचुनावआयुक्तसुनीलअरोड़ानेहालहीमेंइसव्यवस्थाकेबारेमेंखुलासाकियाथाकिआईआईटीचेन्नईकेसहयोगसेविकसितकीजारहीमतदानकीइसपद्धतिकेतहतकिसीभीराज्यमेंपंजीकृतमतदाताकिसीअन्यराज्यसेमतदानकरसकेगा।एकअनुमानकेमुताबिकदेशमेंलगभग45करोड़प्रवासीलोगहैंजोरोजगारआदिकेकारणअपनेमूलनिवासस्थानसेअन्यत्रनिवासकरतेहैं।इनमेंसेकईमतदाताविभिन्नविवशताओंकेकारणमतदानवालेदिनअपनेउसचुनावचुनावक्षेत्रमेंनहींपहुंचपातेहैंजहांकेवेपंजीकृतमतदाताहै।इसपरियोजनासेजुड़ेएकअधिकारीनेबतायाकिदूरस्थमतदानकाप्रयोगईवोटिंगकेरूपमेंसबसेपहले2010मेंगुजरातकेस्थानीयनिकायचुनावमेंकियागयाथा।इसमेंराज्यकेप्रत्येकस्थानीयनिकायकेएकएकवार्डमेंईवोटिंगकाविकल्पमतदाताओंकोदियागयाथा।इसकेबाद2015मेंगुजरातराज्यनिर्वाचनआयोगनेअहमदाबादऔरसूरतसहितछहस्थानीयनिकायोंकेचुनावमेंमतदाताओंकोईवोटिंगकीसुविधासेजोड़ाथा।हालांकिव्यापकप्रचारनहोपानेकेकारणइसचुनावमें95.9लाखपंजीकृतमतदाताओंमेंसेसिर्फ809मतदाताओंनेहीईवोटिंगकाइस्तेमालकियाथा।देशव्यापीस्तरपरईवोटिंगकोलागूकरनेकेलियेपूर्वमुख्यचुनावआयुक्तओपीरावतकेकार्यकालमेंमतदातापहचानपत्रको‘आधार’सेजोड़करसीडेककेसहयोगसेईवोटिंगसॉफ्टवेयरविकसितकरनेकीपरियोजनाकोआगेबढ़ायाथा।इसपरियोजनासेजुड़ेएकअधिकारीनेबतायाकिआधारकोमतदातापहचानपत्रसेलिंककरनेकोउच्चतमन्यायालयमेंचुनौतीदेनेकेकारणयहपरियोजनालंबितथींलेकिनहालहीमेंउच्चतमन्यायालयनेआधारसंबंधीपूर्वनिर्धारितदिशानिर्देशोंकेतहतइसेमतदातापहचानपत्रसेजोड़नेकीमंजूरीदेदीहै।उन्होंनेबतायाकिलगभग31करोड़मतदातापहचानपत्रकोआधारसेपहलेहीलिंककियाजाचुकाहै।देशमेंफिलहालपंजीकृतकुल91.12करोड़मतदाताओंमेंअबलगभग61करोड़मतदाताओंकेमतदातापहचानपत्रकोआधारसेजोड़नाबाकीहै।गुजरातमॉडलकेतहतईवोटिंगकेलियेमतदाताकोआयोगकीवेबसाइटपरईवोटरकेरूपमेंखुदकोपंजीकृतकरनेकाविकल्पदियागयाथा।ऑनलाइनपंजीकरणआवेदनमेंदियेगयेतथ्योंकीजांचमेंपुष्टिकेबादपंजीकृतमतदाताकोएसएमएसऔरईमेलकेजरिएएकपासवर्डमिलताथा।मतदानकेदिननिश्चितअवधिमेंमतदाताकोपासवर्डकीमददसेईबैलेटपेपरभरकरऑनलाइनमतदानकरनेकाविकल्पदियागयाथा।भारतमेंझारखंडऔरदिल्लीविधानसभाचुनावमेंईवोटिंगकीसुविधासर्विसवोटरकोइलेक्ट्रॉनिकडाकमतपत्रकेरूपमेंमुहैयाकरायीगयीहै।गतआठफरवरीकोहुयेदिल्लीविधानसभाचुनावमें80सालसेअधिकउम्रवालेमतदाताओं,दिव्यांगऔररेल,चिकित्साएवंअन्यआपातसेवाकर्मियोंकोडाकमतपत्रकेजरियेघरसेहीमतदानकीसुविधादेनेकीशुरुआतहुयीहै।अरोड़ानेकहाहैकिपूरेदेशमेंइसश्रेणीकेमतदाताओंकोजल्दहीइससेवासेजोड़दियाजायेगा।आयोगकेविशेषज्ञोंकेअनुसारमतदानकीविश्वसनीयताकोध्यानमेंरखतेहुयेफर्जीवोटिंगसहितअन्यगड़बड़ियोंकीसमस्यासेबचनेमेंभीदूरस्थमतदानकारगरविकल्पसाबितहोगा।निर्वाचनप्रक्रियामेंइसप्रकारकेबदलावकेलियेआयोगकोकानूनमंत्रालयसेजनप्रतिनिधित्वकानूनकेमौजूदाप्रावधानोंमेंबदलावकीदरकारहोगी।सूत्रोंकेअनुसारआगामी18फरवरीकोचुनावआयोगऔरकानूनमंत्रालयकेआलाअधिकारियोंकीप्रस्तावितबैठकमेंइनपहलुओंपरविचारहोसकताहै।

By Cook