शारीरिक शिक्षा

निरंकारसिंह।योगीआदित्यनाथकीसरकारनेबढ़तीआबादीपरनियंत्रणकेलिएउत्तरप्रदेशकीनईजनसंख्यानीतिकोजारीकरदियाहै।इसनीतिकेतहतजनसंख्यानियंत्रणकाफार्मूलातैयारकियागयाहै।राज्यविधिआयोगद्वारातैयारड्राफ्टमेंजनसंख्यानियंत्रणकेलिएकड़ीसिफारिशोंकीवकालतकीगईहै।मानाजारहाहैकिइसेसख्तीसेलागूकरनेकेलिएविधिआयोगकीकुछसिफारिशोंकोभीमंजूरीमिलसकतीहै।

ड्राफ्टमेंकहागयाहैकिदोसेअधिकबच्चेवालेव्यक्तिकाराशनकार्डचारसदस्योंतकसीमितहोगाऔरवहकिसीभीप्रकारकीसरकारीसब्सिडीप्राप्तकरनेकापात्रनहींहोगा।कानूनलागूहोनेकेसालभरकेभीतरसभीसरकारीकर्मचारियोंऔरस्थानीयनिकायचुनावमेंचुनेहुएजनप्रतिनिधियोंकोएकशपथपत्रदेनाहोगाकिवेनियमकाउल्लंघननहींकरेंगे।यहशपथपत्रदेनेकेबादअगरवहतीसराबच्चापैदाकरतेहैंतोइसकेप्रारूपमेंसरकारीकर्मचारियोंकीपदोन्नतिरोकनेऔरबर्खास्तकरनेतककीसिफारिशकीगईहै।

उल्लेखनीयहैकिचिकित्साविज्ञानमेंहुईप्रगतिसेआजमानवजातिकेस्वास्थ्यमेंसुधारहुआहै।देशमेंप्रतिव्यक्तिजीवनप्रत्याशामेंनिरंतरबढ़ोतरीहोरहीहै।लिहाजामौतपरलगामलगानेकेसाथजन्मपरभीलगामलगानीहोगी।एकतरफालड़ाईमहंगीपड़ेगी।हमनेमौतकादरवाजातोछोटाकरदियाहै,लेकिनजन्मद्वारपुरानीरफ्तारसेहीबढ़रहाहै।

इसधरतीपरकभीबड़े-बड़ेडायनासोरहोतेथे।लेकिनउनकीजनसंख्याइतनीबढ़गईकिउनकेखानेऔररहनेकीजगहकमपड़गईऔरउनसबकाविनाशहोगया।आजमुश्किलसेउनकेसिर्फकंकालहीमिलतेहैं।उनकेविनाशकाऔरकोईकारणनहींहै,नतोइतनाबड़ाभूकंपआयाऔरनअकालपड़ा,बल्किसबकीमौतभोजनकीकमीसेहोगई।जीव-जंतुओंकीबहुतसीप्रजातियांतोइसधरतीसेलुप्तहोगईहैं,इनकीसंख्यालगातारबढ़तीजारहीहै।लंदनविश्वविद्यालयमेंकिएगएएकअध्ययनकेअनुसारआजमानवजातिकेसामनेसबसेबड़ासंकटजनसंख्याविस्फोटकाहै।बढ़तीआबादीऔरजलवायुपरिवर्तनकोईसंयोगनहींहै।हमदुनियाकीमौजूदाआबादीकाहीपेटनहींभरपारहेहैं।बढ़तीआबादीकीवजहसेभोजनकासंकटहोनेलगाहै।खेतीकीजमीनसिकुड़तीजारहीहैऔरबंजरजमीनमेंबदलरहीहै।पहलेजहांखेती-बाड़ीहोतीथी,उनजगहोंपरभीआजबस्तियांबसगईहैंऔरकल-कारखानेलगगएहैं।ऐसेमेंसबकेलिएखाद्यान्नकहांसेआएगा,यहकोईनहींसोचरहाहै।बढ़तीआबादीकेसाथसाथसंसाधनोंकीकमीआजभारतजैसेविशालजनसंख्यावालेदेशकेलिएबहुतबड़ासंकटहै।

आजइसपृथ्वीपरसातअरबसेअधिकलोगहैं।भारतकीआबादीवर्ष1930में33करोड़थी।आज135करोड़सेअधिकहोगईहै।सिर्फ90वर्षोमेंयहबढ़करचारगुनासेभीज्यादाहोगई।यदिआबादीमेंवृद्धिकीयहरफ्तारजारीरहीतोइससदीकेअंततकहमकहांखड़ेहोंगेकोईनहींबतासकता।सभाकरनेकीकोईजरूरतनहींहोगी।हमजहांभीखड़ेहोंगेसभाहीहोगी।सड़कोंपरचलनेकेलिएजगहकमपड़जाएगी।लेकिनइतनेलोगकैसेजीसकतेहैं।यहसवालसारीदुनियाकेसामनेहै,हमारेसामनेसबसेअधिकहै।सबसेअधिकइसलिएकिसमृद्धसमुदायोंकेलोगबच्चेकमपैदाकरतेहैंऔरगरीबसमुदायोंकेलोगज्यादाबच्चेपैदाकरतेहैं।फिरसमुदायऔरजातिकीराजनीतिकरनेवालेदलोंकोदेशकीकोईचिंतानहींहै,वेअपनीमहत्वाकांक्षाओंकीपूíतकेलिएपतनकीजिसपराकाष्ठापरपहुंचजातेहैं,उसकीतोदुनियामेंकहींकोईमिसालनहींमिलतीहै।कुछधर्मगुरुकहतेहैंकिबच्चेभगवानदेतेहैं।परजोधर्मगुरुयहसमझातेहैंकिबच्चेभगवानदेताहै,वेयहनहींसमझातेकिबीमारीभीभगवानदेताहै,उसकाभीइलाजनहींकरवानाचाहिए।बीमारीकाइलाजडाक्टरसेकरवारहेहैंऔरबच्चेभगवानपरथोपदेतेहैं।ऐसेबहानेनहींचलेंगे।

दुनियाकेविकसितदेशोंनेअपनीआबादीकोनियंत्रितकरलियाहै।कईदेशोंमेंपिछलेएकाधदशकोंसेआबादीस्थिरहै।फ्रांसऔरजापानमेंतोघटरहीहै।चीननेभीअपनीआबादीपरलगभगनियंत्रणपालियाहै,लेकिनभारतइसमामलेमेंअभीतकपिछड़ाहै।हालांकिअबऐसेकृत्रिमसाधनउपलब्धहैंजिनकाउपयोगकरपरिवारनियोजितकियाजासकताहै।लेकिनलोगइसकेप्रतिजागरूकनहींहैं।समाजकोजागरूकबनानेकीसरकारनेबहुतकोशिशकीहै।परंतुअभीतकअपेक्षितपरिणामसामनेनहींआएहैं।इसलिएजनसंख्यानियंत्रणकेलिएकानूनलागूहोनाहीचाहिए।

अबजनसंख्यानियंत्रणयासंततिनियमनकोसमझानेकीजरूरतनहींहै,क्योंकियहजीवनमरणकासवालहै।यहअनिवार्यहोनाचाहिए।अनिवार्यकामतलबयहकिजिनकेबच्चोंकीसंख्यादोसेअधिकहो,उन्हेंतमामसरकारीसुविधाओंसेवंचितकियाजाए।जिनकेपासबच्चेकमहोंउनकोज्यादासुविधाएंमिलनीचाहिए।अभीहालतयहहैकिअविवाहितआदमीपरटैक्सज्यादाहैऔरविवाहितपरटैक्सकमहै।बच्चेहोजाएंतोऔरकमहै।यहउल्टीबातहै।अबअविवाहितआदमीपरटैक्सबिल्कुलनहींलगनाचाहिएयान्यूनतमहोनाचाहिए।विवाहितपरज्यादाटैक्सहोनाचाहिएऔरबच्चोंकीसंख्याकेअनुसारपरबढ़ताजानाचाहिए।तभीहमआबादीकोबढ़नेसेरोकपाएंगे।सबतरफसेदोबच्चोंकेबादसख्तसेसख्तकदमउठाकररोकलगानीचाहिए।उन्हेंसरकारीनौकरियोंकेअलावामताधिकारसेभीवंचितकियाजानाचाहिए।अबयदिहमनेजनसंख्यानियंत्रणपरसख्तकानूनबनाकरउसेलागूनहींकियातोसबकेसामूहिकविनाशकीतैयारीकरलेनीचाहिए।

[स्वतंत्रपत्रकार]

By Cooper