शारीरिक शिक्षा

संवादसहयोगी,कपूरथला:स्नेहबिहारीमंदिरमेंश्रीमद्भागवतकथाके6वेंदिनश्रीकल्याणकमलआश्रमहरिद्वारकेअनंतश्रीविभूषित1008महामंडलेश्वरस्वामीकमलानंदगिरिजीमहाराजनेकहाकिमानवशरीरदेवताओंकोभीदुर्लभहै।भागवतमेंलिखाहैकिस्वर्गकेदेवताभीभारतवासियोंकीसाधनाऔरसत्कर्मकोदेखकरईश्वरसेप्रार्थनाकरतेहैंकिप्रभुजिसप्रकारइनलोगोंकोआपनेभारतवर्षमेंजन्मदियाहैऐसेहीजबहमारापुण्यक्षीणहोजाएऔरहममृत्युलोकमेंजाएंतोहमेंमानवतनप्रदानकरना।मानवतनप्राप्तकरनेकेलिएचरऔरअचरसभीईश्वरसेप्रार्थनाकरतेहैं।मानवजीवनकेबिनाईश्वरप्राप्तिअसंभवहै।उन्होंनेकहाकिआजलोगोंकीशिकायतहैकिमेरेजीवनमेंअशांतिबहुतहै।इंद्रियांजबविषयोंसेमुड़जाएगीऔरमनभोगोंसेहटजाएगातुरंतशांतिमिलेगी।महाराजजीनेआगेबतायाकिइंद्रियांदसहैं।दसोंहीबड़ीखतरनाकहैं।उनमेंसबसेअधिकखतरनाकरसनाऔरवासनाहै।इनदोनोंकीपूर्तिकेलिएपैसाचाहिए।पैसाकमानेकेलिएचाहिएछल-कपट,औरदांवपेच।छलकपटसेअशांतिवतनावमिलताहै।यहतनावऔरअशांतिअपनीमहत्वाकांक्षाकाफलहै।ईमानदारीसेकर्मकरनेवालेकाआधातनावअपनेआपसमाप्तहोजाताहै।महाराजनेबतायाकिआजकामानवअपनेदु:खसेउतनादुखीनहींजितनादूसरोंकेसुखसेदुखीहै।अपनेअभावसेइतनापरेशाननहींजितनादूसरेकेप्रभावसेपरेशानहै।स्वामीजीनेकहाकिभक्तकोमंदिरमेंजाकरआरामसेकुछदेरबैठकरपूजा-अर्चनाकरनीचाहिएऔरप्रभुकेचरणोंमेंध्यानलगानाचाहिए।मनकोप्रभुमेंलगानेकीकोशिशकरोतभीप्रभुकृपाहोगी।इसअवसरपरआचार्यपंडितहरिदत्तजोशी,आचार्यपंडितगोकर्णशास्त्री,आचार्यपंडितचंद्रभानशुक्ला,आचार्यपंडितधमेंद्रमिश्रा,प्रेमवभारीसंख्यामेंश्रद्धालुउपस्थितथे।

ਪੰਜਾਬੀਵਿਚਖ਼ਬਰਾਂਪੜ੍ਹਨਲਈਇੱਥੇਕਲਿੱਕਕਰੋ!

By Collier