शारीरिक शिक्षा

दरभंगा।पटनाउच्चन्यायालयकेमुख्यन्यायाधीशन्यायमूर्तिएपीशाहीबुधवारकीसुबहसंस्कृतविश्वविद्यालयकैंपसपहुंचे।कैंपसमेंप्रवेशकरतेहीन्यायमूर्तिभावुकहोगए।उन्होंनेविश्वविद्यालयकेमुख्यभवन,दरबारहाल,पुस्तकालयएवंयहांकेसंग्रहालयमेंरखीचीजोंकोबारीकीसेदेखावजाना।संग्रहालयमेंरखीराजदरभंगाकेमहाराजाकेसाथअपनेपरदादाकीतस्वीरदेखवेअतीतमेंखोगएऔरउसेकुछदेरनिहारनेकेबाददनादनकईतस्वीरेंअपनेकैमरेमेंकैदकरली।संग्रहालयमेंरखीसभीपौराणिकवस्तुओंकोउन्होंनेबारी-बारीसेदेखा।बीच-बीचमेंजिज्ञासाकरतेरहेजिसेधरोहरोंकोसंरक्षितरखनेमेंलगेमिथिलाविश्वविद्यालयकेकर्मीसंतोषकुमारनेउन्हेंपौराणिकजानकारीदेकरसंतुष्टकिया।संतोषनेन्यायमूर्तिशाहीकोराजदरभंगावपूर्णियास्टेटसेजुड़ीऐतिहासिकघटनाक्रमोंकेबारेमेंकईबातेंबताई।उल्लेखनीयहैकिराजदरभंगापरिवारएवंन्यायमूर्तिकेपूर्वजोंकेबीचबहुतहीदोस्तानासंबंधथाऔरदेशस्तरपरकईऐसेसमकालीनवृहदफैसलेलिएगएथेजिसमेंदोनोंपरिवारोंकीसामूहिकसहमतिरहीथी।पुरखोंकेप्रतिउनकेसमर्पणवलगावकोदेखकरसभीन्यायमूर्तिकीप्रशंसाकररहेथे।केंद्रीयपुस्तकालयमेंरखीपौराणिकवदुर्लभपुस्तकोंकोदेखकरन्यायमूर्तिनेडिजिटलाइजेशनकेजरिएइसेसुरक्षितवसंरक्षितकरनेकीसलाहकुलपतिप्रो.सर्वनारायणझाकोदी।इससेपूर्वन्यायमूर्तिनेकुलपतिप्रो.झासेसंस्कृतविश्वविद्यालयमेंचलरहीशैक्षणिकगतिविधियोंकेबारेमेंविस्तारसेजाना।देवभाषामेंखुदगहरीरुचिरखनेवालेन्यायमूर्तिनेसंस्कृतवसंस्कृतिकेविकासवसंवर्धनकेसाथ-साथइसकेसंरक्षणकीपुरजोरवकालतकी।कुलपतिकोसंस्कृतशिक्षाकेउत्थानकेलिएकईअन्यसलाहभीदी।कुलपतिनेभीउसेअतिगम्भीरतासेलेतेहुएयथाशीघ्रसरजमींपरउतारनेकाभरोसादिया।बतादेंकिन्यायमूर्तिकेकैंपसमेंप्रवेशकरतेहीवैदिकमंगलाचरणववैदिकरीतिसेउनकाभव्यस्वागतकियागया।कुलपतिनेउन्हेंमिथिलाकीपरंपराकेअनुरूपपागवचादरसेसम्मानितकिया।मौकेपरकुलपतिप्रो.झाकेसाथप्रो.श्रीपतित्रिपाठी,प्रो.विद्येश्वरझा,डॉ.अवधेशकुमारचौधरी,डॉ.सत्यवानकुमार,कुलसचिवनवीनकुमार,पीआरओनिशिकांतआदिमौजूदरहे।