शारीरिक शिक्षा

संवादसहयोगी,कालाकोट:

स्वास्थ्यविभागमेंसेवादेरहेएनएचएमकर्मचारियोंकीहड़तालएकमाहमेंप्रवेशकरचुकीहै,लेकिनसरकारअभीतकउनकीमांगोंकेप्रतिकोईभीनिर्णयनहींलेपाईहै।वहींहड़तालकेलंबेखींचेजानेवकर्मचारियोंकेकामपरनलौटनेसेस्वास्थ्यविभागकाकामकाजभीप्रभावितहै,जिससेलोगोंकोअधिकांशस्वास्थ्यकेंद्रोंसेउपचारनमिलनेसेकाफीपरेशानीहोरहीहै।वहींएनएचएमद्वाराजारीहड़तालकोलेकरयूनियनकेनेतामनोहरलालनेबतायाकिस्वास्थ्यविभागकेआठहजारकर्मचारीपिछलेमाहसेहड़तालपरहैं,लेकिनसरकारकर्मचारियोंकीकोईसुधनहींलेरहीऔरलोगोंकीपरेशानीभीबढ़ारहीहै।उन्होंनेकहाकिकईस्वास्थ्यकेंद्रोंमेंतालेलटकेहैं,कर्मचारीहड़तालपरहैं।लोगोंकोस्वास्थ्यकेंद्रोंसेउपचारनहींमिलरहा,लेकिनसरकारकर्मचारियोंकीमांगोंकेप्रतिकोईगंभीरतानहींदिखाकरलोगोंकीपरेशानीबड़ारहीहै।उन्होंनेकहाकिजबतकहमारीमांगेंपूरीनहींहोतीहड़तालजारीरहेगी।हमकर्मचारियोंने144घंटेहड़तालऔरबढ़ाकर24जनवरीतकइसेजारीरखनेकाफैसलालियाहैऔरअगरहमारीमांगेंपूरीनहींहोतीतोइसेऔरआगेबढ़ायाजाएगा।