शारीरिक शिक्षा

हैदराबाद:एआईएमआईएमचीफअसदुद्दीनओवैसीनेविवादितबयानदेतेहुएबाबरीमस्जिदगिरानेकीघटनाकोमहात्मागांधीकीहत्यासे‘‘ज्यादागंभीर’’बतायाहै.उन्होंनेइसघटनाकीसुनवाईमेंहोरहीदेरीकीभीनिंदाकीहै.उन्होंनेकहाकिसाल1992में‘‘राष्ट्रीयशर्म’’केलिएजिम्मेदारलोगआजदेशचलारहेहैं.

हैदराबादसेलोकसभासदस्यनेट्वीटकिया,‘‘महात्मागांधीहत्याकांडकीसुनवाईदोवर्षमेंपूरीहुईऔरबाबरीमस्जिदढहानेकीघटनाजोगांधीकीहत्यासेज्यादागंभीरहै,उसमेंअबतकफैसलानहींआयाहै.’’

उन्होंनेकहा,‘‘गांधीजीकेहत्यारोंकोदोषीठहराकरफांसीपरलटकायागयाऔरबाबरीगिरानेकेआरोपियोंकोकेन्द्रीयमंत्रीबनायागया,पद्मविभूषणसेनवाजागया,न्यायप्रणालीधीरेचलतीहै.’’

उन्होंनेयेटिप्पणियांऐसेसमयकींजबउच्चतमन्यायालयनेबाबरीमस्जिदढहाएजानेकेमामलेमेंभाजपाकेशीर्षनेताओंलालकृष्णआडवाणी,मुरलीमनोहरजोशीऔरउमाभारतीकेखिलाफआपराधिकसाजिशकाआरेापबहालकरनेकेसीबीआईकेअनुरोधकोस्वीकारकिया.

सुप्रीमकोर्टनेहालांकिकहाकिराजस्थानकेराज्यपालकल्याणसिंहकोसंवैधानिकछूटमिलीहुईहैऔरउनकेखिलाफपदसेहटनेकेबादसुनवाईहोसकतीहै.कल्याणसिंहवर्ष1992मेंउत्तरप्रदेशकेमुख्यमंत्रीथे.

ओवैसीनेकहा,‘‘इसमें24सालकीदेरीहुईऔरइसघटनाकोहुए24,25सालगुजरचुकेहैं.लेकिनआखिरकारउच्चतमन्यायालयनेफैसलाकियाकिसाजिशकाआरोपहोनाचाहिए.लेकिनमुझेआशाहैकिउच्चतमन्यायालयसाल1992सेलंबितइसअवमाननायाचिकापरभीफैसलाकरेगी.’’

उन्होंनेकईट्वीटमेंकहा,‘‘क्याकल्याणसिंहइस्तीफादेकरसुनवाईकासामनाकरेंगेयाराज्यपालहोनेकेपर्देकेपीछेछिपेंगे,क्यामोदीसरकारन्यायकेहितमेंउन्हेंहटाएंगे,मुझेसंदेहहैं.’’ओवैसीनेकहाकिउनकोलगताहैकिअगरउच्चतमन्यायालयनेकारसेवाकीअनुमतिनहींदीहोतीतोबाबरीमस्जिदनहींठहायीजातीऔरउच्चतमन्यायालयकाअभीभीअवमाननायाचिकापरसुनवाईकरनाबाकीहै.

सुप्रीमकोर्टनेउत्तरप्रदेशसरकारकेहलफनामादेनेकेबाद28नवंबर1992में‘सांकेतिक’कारसेवाकीअनुमतिदीथी.उत्तरप्रदेशसरकारनेशांतिपूर्णकारसेवाकेलियेहलफनामादियाथा.इसकेबाद6दिसंबरकोकारसेवकोंने16वींसदीकीयहमस्जिदगिरादीथी.