शारीरिक शिक्षा

बक्सर:संसारकेपालनकरताभगवानविष्णुनेसृष्टिकेनियमानुसारअपनीयोगनिद्राकार्तिकशुक्लएकादशीदिनसोमवारकोत्यागदी।आचार्योंनेकहाकिप्रभुकेइसजागरणकेसाथचातुर्मासकासमापनहोगयाऔरचारमाहसेठपमांगलिककार्यतिथिकेयोगानुसारआजसेप्रारंभहोगए।

स्नानध्यानकोअलसुबहसेहीस्नानार्थियोंकीभीड़गंगातटोंपरउमड़नीशुरूहोगईथी।वैसेतोस्नानार्थीयहांकेसभीघाटोंपरमौजूदथे।लेकिनसबसेअधिकभीड़प्रसिद्धपौराणिकस्थलरामरेखाघाटपरश्रद्धालुओंकीउमड़ीहुईथी।जहांश्रद्धालुपुरुष,महिलाओंनेस्नानकियाऔरश्रीहरिकाध्यानकिया।दरअसल,हिदूधर्ममेंदेवउठनीएकादशीवतुलसीविवाहकार्तिकमाहकीशुक्लपक्षकीएकादशीकोमनायाजाताहै।जिसेदेवप्रबोधिनीएकादशीभीकहाजाताहै।इसदिनभगवानविष्णुकीपूजाकरनेसेसभीमनोकामनाएंपूर्णहोतीहै।धार्मिकमहत्वकोदेखतेहुएगंगास्नानकोश्रद्धालुओंकातांतासोमकीतड़केसेविभिन्नघाटोंपरलगाहुआथा।इसदौरानहजारोंकीसंख्यामेंश्रद्धालुभक्तोंनेपतितपावनीमांगंगामेंडुबकीलगाईऔरउसकेबादघाटोंपरस्थितदेवालयोंमेंविधिवतपूजा-अर्चनाकीतथादीएजलाएऔरविष्णुसहस्त्रनामकापाठकिया।बतौरपंडितअमरेंद्रकुमारशास्त्री-आजसेसमस्तमांगलिककार्यजैसेकीविवाह,नामकरण,मुंडन,जनेऊ,गृहप्रवेशआदिकेकार्यतिथियोगानुसारप्रारंभहोजाएंगे।इसदिनतुलसीविवाहकाभीमहत्वहै।इससेशादीशुदाजीवनतोसुखमयरहताहीहै।वहींकन्यासुखभीप्राप्तहोताहै।इसमेंतुलसीजीकाविवाहभगवानविष्णुकेरूपमेंशालिग्रामकेसाथसम्पन्नहोताहै।इसदौरानतुलसीजीकेपौधेकोचुनरीआदिडालकरसजायाजाताहै।कईश्रद्धालुमहिलाओंनेअपनेअपनेघरोंकेआंगनमेंलगेतुलसीपौधेकीविधिवतपूजनकर108बारपरिक्रमालगाईं।वैवाहिकशुभलग्न

नवंबरमहीनेमें-15को,16को,19को,20को,21को,22को,26को,27को,28को,29कोएवं30तारीखको।

दिसंबरमहीनेमें-01को,02को,05को,06को,11को,12कोएवं13तारीखको।