शारीरिक शिक्षा

वसुधावेणुगोपाल,नईदिल्लीमहात्मागांधीकेहत्यारेनाथूरामगोडसेकीतारीफपरभलेहीसंसदमेंबवालहोगयाहो,लेकिनगोडसेसेजुड़ासंगठनराजधानीमेंउसकीप्रतिमालगाकरउसेसम्मानितकरनेकीतैयारीमेंहै।यहांकेमंदिरमार्गपरमौजूददेशकेसबसेपुरानेहिंदूसंगठनोंमेंसेएकहिंदूमहासभानेराजस्थानकेकिशनगढ़सेगोडसेकीप्रतिमातैयारकरवाईहै।इसप्रतिमाकोउसरूममेंरखागयाहै,जहांगोडसेअपनेदिल्लीदौरेमेंहत्याकीयोजनाबनानेकेलिएठहराकरताथा।हालांकि,प्रतिमालगानेकेलिएस्थानऔरतारीखकाचुनावअबतकनहींहोपायाहै।हिंदूमहासभाकेअध्यक्षचंद्रप्रकाशकौशिकनेइकनॉमिकटाइम्सकोबतायाकिसंगठनसरकारकोचिट्ठीलिखकरकमसेकमदेशके5उनशहरोंकेलिएपूछेगा,जहांगोडसेकीप्रतिमालगाईजासकतीहै।उन्होंनेबताया,'अगरसरकारइसकीमंजूरीनहींदेतीहै,तोहमखुदअपनेलॉनमेंइसमूर्तिकोस्थापितकरेंगे।हमारेयहांसभीमहापुरुषोंकीमूर्तिहै।फिरगोडसेकीक्योंनहीं?'मार्बलसेबनीगोडसेकीइसमूर्तिकेलिएइसीसालजुलाईमेंऑर्डरदियागयाथाऔरपिछलेमहीनेयहबनकरहिंदूमहासभाकेऑफिसमेंपहुंचा।कौशिकनेबताया,'हममूर्तिकीस्थापनाकेलिएसहीसमयकाइंतजारकररहेहैं।हमइसकेलिएराजधानीमेंएकबेहतरसार्वजनिकस्थलचाहेंगे।'गोडसेहिंदूमहासभाकासदस्यथाऔर1948मेंमहात्मागांधीकीहत्यासेएकदिनपहलेउसनेइसऑफिसकादौराकियाथा।जिसरूममेंवहठहराथा,उसेइससंगठननेकाफीसहेजकररखाथा।यहसंगठनअबमुख्यतौरपरसंस्कृतकीवापसी,हिंदूपाकिस्तानियोंकीसुरक्षाऔरभारतमेंपाश्चात्यीकरणकेबढ़तेअसरकोरोकनेकेलिएकामकरताहै।कौशिकनेकहा,'हमनहींमानतेकिगोडसेनेगांधीकेसाथजोकिया,वहहिंसाथी।वहब्राह्मणथे।अखबारकेसंपादकथे।उन्होंनेइसकदमकोउठानेसेपहलेसभीविकल्पोंकाआकलनकियाथा।'हिंदूमहासभाकेइसऑफिसकेपरिसरमेंहीआरएसएसकीपहलीशाखाएंलगीथीं।इसऑफिसकीदीवारपरसावरकर,मदनमोहनमालवीय,श्यामाप्रसादमुखर्जीकीतस्वीरेंटंगीहैं।गोडसेकीतस्वीरअंदरखानेमेंरखीजातीहैऔरमांगेजानेपरयहपेशकीजातीहै।ज्यादाखोजबीनकरनेपरमहासभाकेमेंबर्सएकतरफबनेकईमकानोंकीतरफइशाराकरतेहैं,जहांतबजंगलहुआकरताहै।गोडसेनेयहींपरगोलीचलानेकीप्रैक्टिसकीथी।