शारीरिक शिक्षा

ग्रंथीकीप्रेरणासेपगड़ीपहनसिखबनेराकेशखनूजा

संवादसहयोगी,रानीगंज:युवाराकेशसिंहखनूजासिरमेंपगड़ीधारणकरसिखबनगएहै।वहजामुड़ियाबाजारगुरुद्वाराकेअध्यक्षभीहैं।सिखसमाजकेअनुरूपवहजामुड़ियागुरुद्वाराकीसेवामेंजुटगएहै।रानीगंजगुरुद्वारामेंमाथाटेकनेकेदौरानमंगलवारकोउन्होंनेबतायाकिपंजाबीहोनेकेबावजूदभीसिरमेंकेसनहींरखेथे।कुछमहीनेपहलेआसनसोलसेंट्रलगुरुद्वाराप्रबंधककमेटीकेपदाधिकारियोंकेसाथतख्तश्रीहरमंदिरसाहिबपटनादर्शनकरनेगये।वहांजाकरतख्तसाहिबकेग्रंथीकोअपनापरिचयजामुडियागुरुद्वाराप्रबंधककमेटीकाअध्यक्षकेरूपमेंदियातोग्रंथीजीनेकहाकिसबसेपहलेआपसिखधर्मकीमर्यादाकोधारणकरें,उसकेपश्चातहीगुरुघरकीसेवामेंअपनायोगदानदें।राकेशसिंहनेकहाकिघरवापसआकरउन्होंनेप्रणकियाकिअबवहसिखबनेंगेएवंउन्होंनेअपनेसिरमेंकेसधारणकरलियाएवंपगड़ीसजानीशुरूकरदी।उनकीपत्नीगुरप्रीतकौरनेबतायाकिराकेशसिंहखनूजागुरुग्रंथसाहिबजीकेबताएहुएरास्तेपरचलरहेहैं।

By Cox