शारीरिक शिक्षा

संवादसहयोगी,लखीसराय।लखीसरायजिलेमेंकिऊल,गंगाएवंहररूहरनदीहै।इसलिएयहांईंटबनानेकेलिएउपयोगीबालुईमिट्टीएवंविभिन्ननदियोंसेपानीआसानीसेउपलब्धजातीहै।यहांकेबेरोजगारयुवकईंट-चिमनीभट्ठाचलाकररोजगारसृजनकरनेकेप्रतिजागरूकहैं।यहीकारणहैकिबेरोजगारयुवकबैंकोंसेऋणलेकरअथवाअपनीपैतृकजमीनबेचकरईंट-चिमनीभट्ठासंचालितकररहेहैं।इससेकाफीकमसमयमेंयुवकोंकीटीमअपनीपहचानबनाचुकेहैं।इधरकोयलेकीकीमतोंमेंवृद्धिहोनेकेबादजिलेकेअधिकांशईंट-चिमनीभट्ठासंचालकअधिककमाईकरनेकोलेकरईंटपकानेमेंकोयलेकीजगहसरसोंकेभूसाकाप्रयोगकरनेलगेहैं।इससेउन्हें50फीसदराशिकीबचतहोरहीहै।

भूसाथाअनुपयोगी,ईंट-चिमनीभट्ठासंचालकोंनेबढ़ाईकीमत

सरसोंकाभूसामवेशीनहींखाताहै।इसकारणयहपहलेअनुपयोगीथा।सरसोंकेभूसाकीआगटिकाऊरहनेकेकारणजिलेकेकुछईंट-चिमनीसंचालकोंनेईंटपकानेमेंइसकाप्रयोगकरनाशुरूकरदियाहै।परिणामअच्छामिलनेपरअबअधिकांशईंट-चिमनीभट्ठासंचालकईंटपकानेमेंकोयलाकीजगहसरसोंकेभूसाकाहीउपयोगकरनेलगेहैं।जिलेकेईंटचिमनीभट्ठासंचालकबिहारकेअलावाझारखंड,उत्तरप्रदेश,पंजाब,हरियाणाआदिअन्यप्रदेशसेभीसरसोंकाभूसामंगवारहेहैं।देखते-देखतेसरसोंकाभूसादोसौरुपयेमनबिकनेलगाहै।

सरसोंकेभूसासेईंटहोतीहैलाललेकिनकमजोर

सरसोंकेभूसासेपकनेवालीईंटअधिकलालनजरआतीहैपरंतुईंटकोयलाकीतरहठीकमजबूतनहींहोतीहै।सरसोंकेभूसासेपकनेवालीईंटटूटतीभीअधिकहै।सरसोंकाभूसाईंट-चिमनीभट्ठामेंझोंकनेवालेमजदूरबीमारभीअधिकपड़तेहैं।

ईंट-चिमनीभट्ठापरसरसोंकेभूषासेईंटपकानेकेमामलेकीजांचकीजाएगी।इससेहोनेवालीहानिकीभीजानकारीलीजाएगी।ईंट-चिमनीभट्ठापरईंटपकानेमेंसरसोंकेभूसाकाइस्तेमालकरनेपरमजदूरएवंपर्यावरणकोक्षतिहोनेपरसंबंधितईंट-चिमनीभट्ठासंचालककेविरुद्धकार्रवाईकीजाएगी।

घनश्यामरविदास,श्रमअधीक्षक,लखीसराय।