शारीरिक शिक्षा

संवादसहयोगी,कपूरथला:स्नेहबिहारीमंदिरमेंश्रीमद्भागवतकथाकेपांचवेंदिनश्रीकल्याणकमलआश्रमहरिद्वारकेअनंतश्रीविभूषित1008महामंडलेश्वरस्वामीकमलानंदगिरिजीमहाराजजीनेसच्चेभक्तकीपरिभाषादेतेहुएबतायाकिसच्चाभक्तवहीहैजोकभीप्रशंसाकीइच्छानहींरखताऔरनहीआलोचनासेपरेशानहोताहै।सच्चेभक्तकेचेहरेमेंहमेशामुस्कानरहतीहै।भगवानउसेशीघ्रस्वीकारकरलेतेहैं।महाराजजीनेकहाकिपरिस्थितियांतोबदलतीरहतीहैं।कभीसुखआताहैतोकभीदुखआताहैलेकिनइनसबकोभाग्यकेभरोसेछोड़करभगवानकेचरणोंकीभक्तिऔरभगवानकेनामकासिमरनकरनाहीभक्तोंकाउद्देश्यहै।स्वामीकमलानंदजीनेदानकामहत्वबतातेहुएकहाकिदानकरनेसेधनकमनहींहोताबल्किबढ़ताहै।साथहीसमृद्धिभीबढ़तीहै।दानसमस्तसद्गुणोंकाप्रवेशद्वारहै।जिसमनुष्यमेंउदारताकागुणविकसितनहींहोताउसमेंअन्यकोईगुणविकसितनहींहोता।दानहृदयकेविकासकावहव्यायामहैजिसकेद्वारामनुष्यकीउदारताऔरआत्मीयताविश्वकेप्राणीमात्रतकबढ़सके।भारतवर्षकेदानवीरोंमेंदानवीरकर्णकानामश्रेष्ठआताहै।दानवीरकर्णसेजोकोईभीचाहेकुछभीमांगताथा,वोउसेकभीखालीहाथनहींलौटातेथे।कुछलोगसोचतेहैंकिदानदेनेसेधनकमहोजाएगातोहमक्याखाएंगे?हमारेबाल-बच्चेक्याखाएंगे?यहसबएकप्रकारसेआत्मविश्वासकीकमीहै।दानदेनेसेवस्तुकमहोनेकीबजाएबढ़तीहै।कुआंइसकाप्रत्यक्षउदाहरणहै।कुएंसेचाहेजितनापानीनिकालाजाए,उसकीजगहनयापानीआतारहताहै।उसीतरहसंपत्तीकाप्रयोगकरतेरहनेसेवहपुन:प्राप्तहोतीरहतीहै।इसलिएखुलकरदानकरो।

गुरुजीनेकहाकिभगवानश्रीकृष्णकोछप्पनभोगइसलिएलगायाजाताहैं,क्योंकिएकबारभगवानश्रीकृष्णनेगोकुलवासियोंकोइंद्रकेप्रकोपसेबचानेकेलिएगोवर्धनपर्वतकोअपनीअंगलीपरउठालियाथाऔरगांवकेसभीलोगोंनेबारिशसेबचनेकेलिएइसपर्वतकेनीचेशरणलीथी।श्रीकृष्णनेलगातारसातदिनोंतकअपनीअंगलीपरगोवर्धनपर्वतकोउठाएरखाऔरबारिशसेग्रामवासियोंकीरक्षाकी।इंद्रकोविवशहोकरबारिशबंदकरनीपड़ी।भगवानकृष्णप्रतिदिनभोजनमेंआठतरहकाभोजनखातेथेलेकिनजबसातदिनोंतकउन्होंनेअपनीअंगलीपरगोवर्धनपर्वतउठाएरखा,उसदौरानउन्होंनेकुछनहींखाया।सातदिनोंबादग्रामवासियोंनेभगवानकाआभारप्रकटकरनेकेलिएउन्हें56तरहकापकवानबनाकरभोगलगायाथा।इसअवसरपरमंदिरकेप्रवक्तापंकजगोयल,परवीनगोयलवकाफीतादादमेंश्रद्धालुउपस्थितथे।

ਪੰਜਾਬੀਵਿਚਖ਼ਬਰਾਂਪੜ੍ਹਨਲਈਇੱਥੇਕਲਿੱਕਕਰੋ!

By Collier