शारीरिक शिक्षा

संजीवरंजन,राची:राहमेंकितनीभीमुश्किलेंआएं,कितनेभीकांटेमिलेपरजबकुछकरनेकीठानलीतोसफलताकदमचूमतीहै।कुछऐसाहीकरदिखायाहैझारखंडकीदोबेटियोंदीप्तिकुमारीवलक्ष्मीहेम्ब्रमने।आर्थिकतंगीवकठिनाइयोंकोपछाड़दोनोंनेअपनामुकामपाया।दोनोंकाचयनप्रथमएशियाकपतीरंदाजीचैंपियनशिपकेलिएभारतीयटीममेंकियागया।

राचीकीबेटीदीप्तिकुमारीऔरजमशेदपुरकीबेटीलक्ष्मीहेंब्रमबैंकॉकमेंदोसेनौमईतकहोनेवालीइसचैंपियनशिपमेंरिकर्वस्पर्धामेंनिशानासाधतीनजरआएंगी।दीप्तिकुमारीराचीकेजोन्हाक्षेत्रकेवैनड्राइवरकीबेटीहैं।बिरसामुंडाआर्चरीसेंटरजोन्हा,अनगड़ासेप्रशिक्षणलियाहै।एकसमयतीर-कमानखरीदनेकेलिएपैसेनहींथे।लेकिनआजवहआइटीबीटीमेंकार्यरतहै।वहींलक्ष्मीहेंब्रमटाटाआर्चरीएकेडमीसेजुड़ीहैं।दिहाड़ीमजदूरकीबेटीहैं।जमशेदपुरशहरकेकरनडीहकीरहनेवालीहैं।पिछलेवर्षतीरंदाजीटूर्नामेंटमेंभारतकाप्रतिनिधित्वकियाथा।वर्ष2018मेंमिनीनेशनलकेरिकर्वमहिलाटीमवर्गमेंपदकविजेतारहचुकीहैं।दीप्तिनेलगन,मेहनतकेबलपरपायामुकाम

राचीकेअनगड़ाब्लॉककेजोन्हाकीरहनेवालीदीप्तिकुमारीकाअभीएकमात्रलक्ष्यउक्तचैंपियनशिपमेंस्वर्णजीतनाहै।वहबैंकॉकमें2से9मईतकआयोजितप्रतियोगितामेंरिकर्वस्पर्धामें70मीटरकीदूरीसेगोल्डपरनिशानासाधेंगी।तीर-धनुषसेदीप्तिकासामनापहलीबार2014मेंहुआ।तबसेलेकर2019तकलकड़ीकेबनेतीर-धनुषसेहीअभ्यासकरतीरही।ड्राइवरपिताकैनाथमहतोकेलिएयहमुमकिननहींथाकिमहंगेरिकर्वतीर-धनुषखरी।फरवरी2016मेंदीप्तिनेसबजूनियरनेशनलतीरंदाजीमेंलकड़ीकेधनुषसेचारस्वर्णपदकपरकब्जाजमायाथा।उसकीप्रतिभाकोदेखतेहुएबिरसामुंडातीरंदाजीप्रशिक्षणकेंद्रकेसंरक्षकसुदेशमहतोनेदीप्तिकोरिकर्वधनुषमुहैयाकराया।आधुनिकउपकरणमिलनेसेउसकीप्रतिभामेंकाफीनिखारआया।

दीप्तिनेअबतक12नेशनलचैंपियनशिपमेंकुल36पदकजीताहै।इनमें19स्वर्ण,10रजतऔर8कास्यशामिलहैं।मार्चमेंउत्तराखंडमेंआयोजित41वींजूनियरराष्ट्रीयतीरंदाजीप्रतियोगितामेंस्वर्णपरकब्जाकिया।इसीप्रदर्शनकेआधारपरउसकाचयनएशियनतीरंदाजीचैंपियनशिपकेलिएकियागया।

दीप्तिकेप्रशिक्षकरोहितनेबतायाकिवहकाफीप्रतिभावानहै।उसनेरिकर्वस्पर्धामेंमहजदोसालोंकेभीतरहीदेशभरकेतीरंदाजोंकोचुनौतीदेतेहुएखुदकोस्थापितकियाहैऔरअपनीपहचानबनाईहै।

दिहाड़ीमजदूरकीबिटियापहुंचीतीरंदाजीविश्वकपमें

आर्थिकरूपसेकमजोरपरिवारकीबेटीलक्ष्मीहेंब्रमनेअपनीप्रतिभाकेदमपरपहचानबनातेहुएएशियनचैंपियनशिपकेलिएटीममेंजगहबनाईहै।जमशेदपुरकेकरनडीहकीरहनेवालीलक्ष्मीहेंब्रमटाटाआर्चरीएकेडमीकीप्रशिक्षुहै।पिछलेवर्षकैडेटविश्वकपतीरंदाजीटूर्नामेंटमेंभारतकाप्रतिनिधित्वकिया।लक्ष्मीहेंब्रमनेराचीमेंआयोजितएसजीएफआइनेशनलआर्चरीचैंपियनशिपमेंभीपदकहासिलकियाहै।्2018मेंमिनीनेशनलचैंपियनशिपकेरिकर्वमहिलाटीमवर्गमेंलक्ष्मीनेस्वर्णपरकब्जाजमाया।

लक्ष्मीकेपितारामसिंहहेंब्रमवमातासोमवारीहेंब्रमएककंपनीमेंदिहाड़ीमजदूरहैं।घरकीआर्थिकस्थितिअच्छीनहींथी।उसकातीरंदाजबननाभीएकसंयोगहीहै।लक्ष्मीकेचचेरेभाईबुधरामसोयजमशेदपुरस्थितआइएसडब्ल्यूपीआर्चरीसेंटरमेंट्रेनिंगकरनेआतेथे।वहभीअपनेभाईकेसाथआनेवहाजानेलगी।एकदिनवहअपनेभाईकाधनुषखींचरहीथीतभीकोचकीनजरलक्ष्मीपरपड़ी।उन्होंनेभाईबुधरामसोयकोनियमितरूपसेलक्ष्मीकोट्रेनिंगसेंटरलानेकीसलाहदी।हालाकिपरिवारकीआर्थिकस्थितिठीकनहींहोनेकेकारणवहनियमितनहींआपातीथी।फिरभीजबमौकामिलतावहजातीऔरअभ्यासकरतीथी।यहासेलक्ष्मीकीतीरंदाजीयात्राशुरूहुई।कस्तूरबास्कूलपोटकामेंदाखिलालेनेकेबादवहनियमितरूपसेतीरंदाजीसीखनेलगी।धीरे-धीरेवहअपनेवर्गमेंबेहतरकरनेलगी।इसकेबादउसनेटाटास्टीलरूरलडेवलपमेंटकेट्रायलमेंहिस्सालिया।जहाउसकाचयनहोगया।2016मेंलक्ष्मीनेटाटाआर्चरीएकेडमीमेंअपनीजगहबनाई।

By Daniels