शारीरिक शिक्षा

वस॥नईदिल्ली:मृत्युदंडदेनेकेएकविकल्पकेतौरपरजहरकाइंजेक्शनभीलगायाजासकताहै।सरकारसेयहकहाहैविधिआयोगने।राज्यसभामेंबुधवारकोएकसवालकेउत्तरमेंगृहराज्यमंत्रीएम.रामचंद्रननेबतायाकिआयोगनेसीआरपीसीकीधारा354(5)मेंसंशोधनकरप्राणघातकइंजेक्शनसेमृत्युदंडदेनेकीसिफारिशकीहै।आयोगनेकईऔरमुद्दोंपरभीसिफारिशेंकीहैं।इनपरविचारकियाजारहाहै।राज्यमंत्रीनेबतायाकिनैशनलक्राइमरिकॉर्डब्यूरोकेआंकड़ोंकेमुताबिक13दिसंबर2009तकमृत्युदंडकीसजापाए377दोषीदेशकीविभिन्नजेलोंमेंबंदथे।

By Curtis