शारीरिक शिक्षा

चन्दौसी:सरकारीमशीनरीकाहालबेहालहै।मामलागरीबऔरकिसानोंसेजुड़ाहोतोसरकारीतंत्रकीलापरवाहीसाफदेखीजासकतीहै।खेतोंमेंधानकीफसलकेलिएपानीकीआवश्यकताहै।किसानसरकारीनलकूपोंपरआश्रितहैं।सरकारीनलकूपोंसेकिसान¨सचाईनहींकरपारहेहैं।जनपदमें581सरकारीनलकूपोंपर230ऑपरेटरोंकीनियुक्तिहै।उसमेंभीतमामनलकूपखराबहालतमेंहैं।ऐसेमेंकिसानोंकेचेहरोंपर¨चताकीलकीरें¨खचनेलगीहैं।

जनपदसम्भलमें581सरकारीनलकूपहैं।इननलकूपोंकेसंचालनकेलिएमात्र230हीऑपरेटरहैं।कुल351नलकूपोंपरऑपरेटरोंकीतैनातीनहींहै।उसमेंभीतमामनलकूपखराबहालतमेंहैं।इनदिनकिसानोंनेखेतोंमेंधानकीफसलकीहै।धानकीफसलकेलिएअधिकपानीकीआवश्यकताहोतीहै।बारिशधोखादेगई।किसानोंकोमात्रनलकूपोंकासहाराहै।सरकारीनलकूपोंकीहालतखस्ताहै,जिससेकिसानोंकोमजबूरनडीजलखर्चकरआर्थिकसंकटसेजूझनापड़रहाहै।भाकियूअसलीकेयुवामंडलाध्यक्षऋषभचौधरीनेबतायाकिक्षेत्रमें70प्रतिशतनलकूपखराबहालतमेंहैं,ऑपरेटरोंकीनियुक्तिनहींहोरहीहै,लोवोल्टेजकीसमस्याभीबनीहुईहै,गरीबकिसानोंकोपरेशानियोंकासामनाकरनापड़रहाहै।नगराध्यक्षप्रवीणयादवनेबतायाकिनलकूपोंकीदशाखराबहोनेसेधानकी¨सचाईनहींहोपारहीहै,पहलेहीइसबारबारिशकमहुईहै,कईबारविभागसेभीइससंदर्भमेंवार्ताकीलेकिनआश्वासनहीमिलतेरहे।

¨सचाईमेंलोवोल्टेजकीसमस्याबाधाबनी

चन्दौसी:एकतोजनपदमेंसभीसरकारीनलकूपनहींचलपारहेहैं,वहींजोचलरहेहैंउनमेंलोवोल्टेजकीसमस्याबाधाबनीहुईहै।लोवोल्टेजकीवजहसेनलकूपकामनहींकररहे,जिससेकिसानोंको¨सचाईकरनेमेंदिक्कतोंकासामनाकरनापड़रहाहै,इतनाहीनहींलोवोल्टेजमेंनलकूपचलानेपरनलकूपकेमोटरखराबहोजारहेहैं।जानकारोंकेमुताबिकनलकूपकेलिए400वोल्टकीजरूरतहोतीहै,जबकिग्रामीणअंचलोंमें150से350वोल्टहीआरहेहैं।

जोनलकूपऑपरेटरसेवानिवृतहोगएउनकेस्थानपरकोईनियुक्तिनहींहुईहै।जनपदमें581नलकूपहैं,जिनपर230हीऑपरेटररहगएहैं,लोवोल्टेजकीवजहसेआएदिननलकूपकेमोटरखराबहोतेरहतेहैं,इसकेबावजूदकोशिशरहतीहैकिकिसानोंकोपरेशानीनहोसके।

शीलकुमारत्रिपाठी,अधिशासीअभियंता,¨सचाईविभाग।