शारीरिक शिक्षा

जम्मू, राज्यब्यूरो: कश्मीरकेंद्रितसरकारोंकीअनदेखीकेकारणनजरअंदाजहोतेआएजम्मूसंभागमेंविकासकीशुरूआतकरवानेवालेपूर्वराज्यपालक्षेत्रकेलोगोंकेदिलोंमेंहमेशाजिंदारहेंगे।

प्रदेशकेइतिहासमेंअबतकसिर्फजगमोहनहीऐसेराज्यपालरहेहैंजिन्हेंदूसरीबारजम्मूकश्मीरकाराज्यपालबनानेपरजम्मूवासियोंनेदिवालीमनातेहुएअपनेघरोंमेंदिएजलाएथे।वर्ष1984से1989तकराज्यपालरहेजगमोहनकोदूसरीबार1990मेंजम्मूकश्मीरकाराज्यपालबनायागयाथा।सामानविकासक्याहोताहै,जम्मूवासियोंकोयहअंदाजाराज्यपालशासनकेदौरानहुआथा।इसदौरानजम्मूशहरमेंफ्लाईओवरबनानेकेसाथविकासकोतेजीदेनेकेप्रोजेक्टबने।

दोबारजम्मूकश्मीरसेभाजपाकेविधायकवएकबारएमएालसीरहेअशोकखजूरियाकाकहनाहैकिज्गमोहनएकविकासपुरुषथे,उन्होंनेजम्मूसंभागमेंविकासकेबड़ेप्रोजेक्ट,फ्लाइओवर,अस्पतालआदिबनानेकीशुरूआतकीथी।जम्मूशहरमेंफलाइओवरबनानेकेसाथउनकीकोशिशथीकिजम्मूशहरकेबीसीरोडसेफ्लाइओवरकाविस्तारकरइसेमांडातकपहुंचायाजाए।ऐसासंभवनहीहोपाया।

खजूरियाकाकहनाहैकिजगमोहननेश्रीमातावैष्णोदेवीस्थापनास्थापनाबोर्डबनाकरमाताकेभक्तोंपरएहसानकियाथा।उन्हीकीप्रयासोंकीबदौलतहीआजश्रीमातावैष्णोदेवीधार्मिकस्थलपरयात्रियोंकेलिएविश्वस्तरीयसुविधाएंहैं।यहकारणहैंकिविकासकीउम्मीदेंरखनेवालेजम्मूवासियोंकोजबपतालगाकिजगमोहनफिरसेराज्यपालबनरहेहैंतोउन्होंनेखुशीकाइजहारकरनेकेलिएअपनेघरोंकेबाहरदिएजलाएथे।

वहींसूचनाविभागसेअसिस्टेंटइन्फारमेशनआफिसरकेपदसेसेवानिवृत्तहुएमहेशशर्मानेपूर्वराज्यपालजगमोहनकेनिधनपरगहराशोकव्यक्तकिया।उन्होंनेकहाकिजबवहजम्मू-कश्मीरकेराज्यपालथे,उसदौरानउन्हेंभीउनकेसाथकामकरनेकामौकामिला।उन्होंनेराजनीतिसेऊपरउठकरजम्मूऔरश्रीनगरकेसमानविकासकोमहेशातरजीहदी।उनकेकार्यकालकेदौरानजम्मूवकश्मीरमेंसम्मानविकासहुआ।यहीवजहहैकिजम्मूवकश्मीरसंभागकेलोगउन्हेंआजभीयादकरतेहैं।

कश्मीरघाटीमेंआतंकवादकीकमरतोड़नेमेंउनकीभूमिकाअहमरही।उनकेसख्तकदमोंनेहीजेकेएलएफकीजड़ोंकोकश्मीरघाटीमेंकमजोरकिया।उनकेप्रयासोंसेहीमुफ्तीमोहम्मदसईदकीबेटीकोआतंकवादियोंसेरिहाकियागया।श्रीमातावैष्णोदेवीश्राइनबोर्डकागठन,माैलानाआजादरोड,जम्मूवकश्मीरफ्लाइओवरजैसेकीमहत्वपूर्णप्रोजेक्टस्वर्गीयजगमोहनजीकीहीदेनहै।जम्मू-कश्मीरकेराज्यपालकेतौरपरदोबारअपनीसेवाएंदेचुकेस्वर्गीयजगमोहनजीनेअपनीपुस्तकफायरमेंजम्मू-कश्मीरकेहालातकोबयांकियाहै।उनकीयहपुस्तककाफीपसंदकीगई।

यहीवजहहैकिसूचनाविभागकेजेपीगंडोत्रानेउनकीअंग्रेजीपुस्तकफायरकाेउर्दूमेंअनुवादकियाजिसकानामआतिशथा।वहभीकाफीपसंदकीगई।अंतमेंमहेशशर्माजीनेकहाकिजम्मू-कश्मीरकेप्रतिउनकीसोचवयहांकेलोगोंकेलिएउनकेदिलमेंजोप्रेमरहाहै,वहउन्हेंहमेशायहांकेलोगोंकेबीचजिंदारखेगी।

By Curtis