शारीरिक शिक्षा

(हरिंदरमिश्रा)यरूशलम,18अक्टूबर(भाषा)विदेशमंत्रीएस.जयशंकरनेसोमवारकोयरूशलमओल्डसिटीस्थितप्रसिद्धइंडियनहोसपाइसमेंएकपट्टिकाकाअनावरणकिया,जोभारतकाइसक्षेत्रसेसदियोंपुरानकसांस्कृतिकजुड़ावकोदर्शाताहै।पट्टिकापरलिखाहै:‘‘इंडियनहोसपाइस,स्थापित-12वींईस्वी,विदेशमंत्रालय,भारतसरकार,नयीदिल्लीकेसहयोगसे।’’श्रुतियोंकेमुताबिक,सूफीसंतबाबाफरीदभारतसे1200ईस्वीमेंपवित्रशहरयरूशलमआएथेऔरपत्थरकेबनेएककमरेमें40दिनोंतकसाधनाकीथी।इसकेबादसेमक्काआने-जानेवालेभारतीयमुस्लिमश्रद्धालुइसस्थानकीयात्राकरतेहैं,जिसेइंडियनहोसपाइसकहाजाताहै।होसपाइसकाअर्थसामान्यतौरपरअस्पतालयाबीमारलोगोंकेलिएसुविधाकेंद्रहोताहै।इससेपहलेरविवारकोभारतीयसमुदायकोसंबोधितकरतेहुएजयशंकरनेकहाथाकि‘‘यरूशलमकेसाथभारतकासंबंध800वर्षपुरानाहै।’’विदेशमंत्रीनेसोमवारको‘यरूशलमफॉरेस्ट’में‘भूदानग्रोव(भूदानउपवन)’पट्टिकाकाभीअनावरणकियाऔरइसप्रकारभारत-इजराइलकेबीचपूर्णराजनयिकसंबंधस्थापितहोनेसेपहलेकेसमयमेंदोनोंदेशोंकेबीचरहेसंबंधोंकेअल्पज्ञातपक्षोंकोसामनेलानेकीपहलकी।विकासकेलिएगांवकोबुनियादीइकाईमाननेकीमहात्मागांधीकीअवधारणाकोध्यानमेंरखतेहुएभारतीयनेता‘भूदानऔरग्रामदान’जैसेसर्वोदयअभियानकेसमाजवादीविचारोंकेक्रियान्वयनकेतरीकेखोजनेकेदौरानइजराइलकेअनेकदौरोंपरगएथे।उन्होंनेइजराइलकेसामुदायिकऔरसहकारितासंस्थानों-किबुत्जिमऔरमोशाविमकेअलगस्वरूपोंकेसामाजिकढांचेकाअध्ययनकिया।सर्वोदयअभियानकेनेताजयप्रकाशनारायणसितंबर1958मेंइजराइलकेनौदिवसीयदौरेपरगएथे।उनकेदौरेकेबाद27सदस्यीयसर्वोदयदलछहमहीनेकेअध्ययनदौरेपरवहांगया।भारतलौटनेकेदौरानइसदलने22मई1960को‘यरूशलमफॉरेस्ट’में‘भूदानग्रोव’केलिएपौधारोपणकिया।जयशंकरनेजेपीऔरभूदानकर्मियोंकेदौरेको‘‘हमारेपरस्परइतिहासकाएकऐसापहलू’बताया‘‘जिसेवहमहत्वनहींमिलाजिसकाकिवहहकदारथा।’’उन्होंनेकहाकिइसपट्टिकाकाअनावरणबहुतउचितसमयपरहोरहाहैक्योंकिपिछलेवर्षआचार्यविनोबाभावेकी125वींजयंतीथी।‘भूदानग्रोव’पट्टिकाकाअनावरणकरनेकेबादज्यूइशनेशनफंडनेजयशंकरकोप्रमाण-पत्रसौंपा।रविवारशामकोअपनेसंबोधनमेंजयशंकरनेभारतीययहूदीसमुदायकेसाथइससाझाऐतिहासिकरिश्तेकेबारेमेंजानकारीदी।उन्होंनेकहा,‘‘आजादीकेबाद,आधुनिककालमेंइसबारेमेंभीकुछतथ्यऐसेहैंजिनकीजानकारीकमलोगोंकोहै,जैसेकिभारतकेप्रमुखसमाजवादीराजनीतिकनेताओंऔरधाराओंनेइजराइलमेंकिबुत्जआंदोलनकेसाथकिसतरहकीसमानतामहसूसकी।’’उन्होंनेकहा,‘‘स्वतंत्रताआंदोलनसेजुड़ेप्रमुखराजनीतिकनेताओंमेंसेएकजयप्रकाशनारायण1958मेंइजराइलगए।आजादीकेआंदोलनकेएकऔरशीर्षनेताविनोबाभावेकेकईअनुयायीकिबुत्जआंदोलनकोसमझनेकेलिए1960मेंइजराइलगएथे।’’विदेशमंत्रीनेयहूदीनरसंहार(होलोकास्ट)केदौरानमारेगएलाखोंयहूदीलोगोंकीयादमेंबनाएगएस्मारकयादवाशेमपरपुष्पांजलिअर्पितकी।इसकेबादउन्होंनेस्मारकपरआगंतुकपत्रिकामेंलिखा,‘‘यहस्मारकइसबातकागवाहहैकिव्यक्तिकिसहदतकबुराहोसकताहै,यहमानवीयगुण-सहनशक्तिऔरदृढ़ताकाभीप्रतीकहै।लोगोंकेलिएयहस्मारकहमेशासाहसऔरसच्चाईकाप्रतीकरहेगा।’’जयशंकरइजराइलकेविदेशमंत्रीयेरलेपिडसेभीमुलाकातकरेंगे।

By Connor