शारीरिक शिक्षा

नईदिल्लीसुप्रीमकोर्टनेकहाहैकिकैदियोंकोजानवरोंकीतरहजेलमेंनहींरखाजासकता।सुप्रीमकोर्टनेयेटिप्पणीतबकीजबअदालतकोबतायागयाकिदेशभरमें1300जेलोंमेंकैदियोंकीसंख्याज्यादाहै।कोर्टकोबतायागयाकिकईजगहतोतयक्षमतासे600फीसदीज्यादाकैदीरहतेहैं।सुप्रीमकोर्टकेजस्टिसमदनबीलोकूरकीअगुवाईवालीबेंचनेकहाकिअगरकैदियोंकोसहीतरहसेरखानहींजासकतातोउन्हेंसुधारनेकीक्याबातकीजाए।अगरउन्हेंसहीतरहसेजेलमेंरखानहींजासकतातोउन्हेंछोड़दियाजानाचाहिए।अदालतनेराज्यसरकारोंऔरकेंद्रशासितप्रदेशोंकेखिलाफयेसख्तटिप्पणीकी।अदालतनेकहाकियहअत्यंतदुर्भाग्यपूर्णस्थितिहै।तमामराज्योंकेडीजीऔरकेंद्रशासितप्रदेशकेडीजीकोचेतावनीदेतेहुएकहाकिअगरपिछलेआदेशकासहीतरहसेपालननहींकियागयातोकंटेप्टनोटिसजारीकियाजाएगा।पिछलेआदेशमेंकैदियोंकीभीड़कोडीलकरनेकेलिएक्याएक्शनप्लानहैयेसुझानेकोकहागयाथा।अदालतनेकहाकियेदुर्भाग्यपूर्णहैकिजेलोंमेंकैदियोंकीभारीभीड़है।अदालतनेकहाकिकैदियोंकाभीमानवाधिकारहैउन्हेंजानवरोंकीतरहबंदकरकेनहींरखाजासकता।सुप्रीमकोर्टकोकोर्टसलाहकारनेबतायाकिकईजेलोंमें150फीसदीज्यादाकैदीहैंऔरएकमेंतोतयक्षमतासे609फीसदीज्यादाकैदीबंदहैं।अदालतनेकहाकिइससेजाहिरहोताहैकिराज्यसरकारअपनेदायित्वकेप्रतिबेहदलापरवाहहै।कईकैदीतोजमानतपाचुकेहैंलेकिनमुचलकानहींभरनेकेकारणजेलमेंबंदहैं।