शारीरिक शिक्षा

जागरणसंवाददाता,फर्रुखाबाद:रेलवेकीअपेक्षाराज्यसड़कपरिवहननिगमकीबसोंकाकिरायाकरीबतीनगुनाअधिकहै।इसकेबावजूदरोडवेजबसोंमेंसुविधाओंकाअभावहै।हालातयहहैंकिअधिकांशबसेंखटाराहैं।बसोंकेशीशेतकगायबहैं।आवश्यकफ‌र्स्टएडबाक्सतकउपलब्धनहींरहता।सर्दीबढ़नेकेसाथहीबसोंमेंयात्राकठिनहोगईहै।

रोडवेजबसोंकाविवरणहरमाहनिगममुख्यालयकोभेजाजाताहै।नियमानुसार10लाखकिलोमीटरकासफरकरनेवालीबसनिष्प्रयोज्यमानलीजातीहै।हालहीमेंबनेनयेनियमकेअनुसारबसकीउम्र10वर्षहोनेपरउसेनीलामीकेलिएडिपोसेवापसबुलायाजासकताहै।स्थानीयडिपोमेंइनदिनोंनिगमकी92बसेंसंचालितहैं।सातअनुबंधितबसेंभीचलरहीहैं।करीब10बसेंउम्रपूरीकरचुकीहैं।इनकेशीघ्रनीलामीकेलिएवापसजानेकीसंभावनाहै।आधेसेअधिकबसेंदेखनेमेंहीखस्ताहाललगरहीहैं।नतीजतनबसोंमेंयात्रियोंकोधक्कालगानापड़ताहै।किसीकीखिड़कीकेशीशेगायबहैंतोकिसीकीछतटपकतीहै।सर्दीमेंरात्रिकालीनसेवाओंमेंयात्रियोंकोखटाराबसोंमेंकाफीपरेशानीहोतीहै।हल्कीबारिशमेंछतेंटपकनेलगतीहैं।रोडवेजकीबसेंकहींभीखड़ीहोजातीहैं।यहहालततबहैजबट्रेनकीअपेक्षाबसोंकाकिरायातीनगुनातकहै।शहरकेरोडवेजबसस्टेशनसेप्रतिदिन350से400बसेंआती-जातीहैं।इनबसोंकीहालतबहुतअच्छीनहींहै।नियमानुसारहरबसमेंफ‌र्स्टएडबाक्सउपलब्धरहनाचाहिए,लेकिनवहउपलब्धनहींरहता।डिपोमेंसंचालनकाकामदेखरहेगौरीशंकरनेबतायाकिकिरायामुख्यालयसेतयहोताहै।यात्रियोंकीसुविधाकापूराध्यानरखनेकाप्रयासकियाजाताहै।

By Cooper