शारीरिक शिक्षा

संवादसहयोगी,रुड़की:मरीजकोअगरखूनकीजरूरतपड़ीतोउसकीजानकैसेबचेगी।जी,हांसिविलअस्पतालमेंस्थितब्लडबैंकमेंब्लडलगभगसमाप्तहोचुकाहै।अगरएकग्रुपकोछोड़देंतोअन्यग्रुपकीएक-दोयूनिटहीब्लडबैंकमेंहै।

सिविलअस्पतालरुड़कीकेब्लडबैंकमें350यूनिटरखनेकीक्षमताहै,लेकिनइससमयब्लडबैंकलगभगखूनसेखालीहोचुकाहै।बीपॉजिटिवग्रुपकी29यूनिटब्लडबैंकहैं।जबकिअन्यसातग्रुपमेंकेवलएक-दोयूनिटहीब्लडबचाहै।ओपॉजिटिवएवंएपॉजिटिवकीतोएकभीयूनिटब्लडबैंकमेंउपलब्धनहींहै।एबीनिगेटिव,ओनिगेटिव,एनिगेटिवऔरबीनिगेटिवकीएक-एकयूनिटब्लडबैंकमेंहै।ऐसेमेंयदिकिसीघायलयाफिरकिसीमरीजकेलिएखूनकीजरूरतपड़तीहैतोउसकीजानबचापानाआसाननहींहोगा।

कोरोनाबनाहैमुख्यकारण

ब्लडबैंककीहालतइससेपहलेकभीऐसीनहींथी।लेकिनजबसेकोरोनाशुरूहुआहैतबसेब्लडबैंकखूनकीकमीसेजूझरहाहै।कोरोनाकेभयकेकारणरक्तदाताब्लडबैंकनहींआरहेहैं।हालांकितमामऐसेरक्तदाताभीहैंजोकोरोनाकेबादभीरक्तदानकेलिएनियमितरुपसेब्लडबैंकमेंआरहेहैं।लेकिनइनकीसंख्याबेहदकमहै।यहीवजहहैकिब्लडबैंकमेंब्लडकीकमीहोगईहै।

थैलीसिमियासेपीड़ित56बच्चेहैंपंजीकृत

सिविलअस्पतालरुड़कीकेब्लडबैंकसेथैलीसिमियाके56बच्चोंकोखूनदियाजाताहै।इनमेंकईबच्चेऐसेहैंजिन्हेंमहीनेमेंदोबारखूनचढ़ायाजाताहै।प्रतिमाहथैलीसिमियासेपीड़ितबच्चोंकेलिएब्लडबैंकको100यूनिटब्लडहरहालमेंचाहिए।इनबच्चोंकोब्लडनिश्शुल्कदियेजानेकेसाथहीबदलेमेंभीकोईब्लडनहींलियाजाताहै।जिससेब्लडबैंककेलिएकाफीमुश्किलहोगईहै।

कोरोनाकेचलतेस्वेच्छिकरक्तदानमेंकाफीकमीआईहै।रक्तदानशिविरभीकमलगपारहेहैं।हालांकिवहएवंब्लडबैंकप्रभारीविभिन्नसामाजिकसंस्थाओंऔरसमाजसेवियोंसेलगातारसंपर्कमेंहै।रक्तदानशिविरलगवाएजानेकाप्रयासकियाजारहाहै।रविवारकोएकरक्तदानशिविरप्रस्तावितभीहै।ब्लडबैंकमेंरक्तदानकरनापूरीतरहसेसुरक्षितहैं।ब्लडबैंकमेंकिसीबाहरीकोप्रवेशनहींमिलताहै।पूरेब्लडबैंककोसैनिटाइजकियाजाताहै।इसलिएक्षेत्रवासियोंकोचाहिएकिवहबिनाकिसीभयकेरक्तदानकरें।उनकेद्वाराकियागयारक्तदान,किसीकेलिएजीवनदानसाबितहोगा।

डॉ.संजयकंसल,मुख्यचिकित्साअधीक्षक,सिविलअस्पतालरुड़की।

By Daly