शारीरिक शिक्षा

गढ़मुक्तेश्वर,प्रिंसशर्मा। गंगाकिनारेगांवलठीरामेंस्थितगुरुविश्रामवृद्धाआश्रमअपनोंकेसितमसेसताएगएवृद्धाओंकेलिएकिसीस्वर्गसेकमनहींहै।सुबहबिस्तरमेंदूधकेनाश्तेसेलेकरदोपहरमेंहरीसब्जीऔररातकोदालचावलसहितमिष्ठानयहां खानेमेंदियाजाताहै।अपनेकेदिएगएदर्दसेतंगआकरउक्तआश्रममेंकरीबडेढ़सौसेअधिकवृद्धाअपनेजीवनज्ञापनकररहेहै।

सुंदरभवन,उसकेअंदरडेढ़सौसेअधिकवृद्धमहिला-पुरुष,उनकेरहनेसेखाने-पीनेऔरदवातककाबेहतरइंतजामहै।इसआश्रममेंजहांरहनेवालेवृद्धोंकाकोईअपनानहींहै,लेकिनगैरोंकेहाथोंसेजीवनकेआखिरीपड़ावपरसहानुभूतिऔरदेखभालकाजोमरहमलगरहरहाहै,वोउन्हेंअपनोंकेफर्जजैसाहीलगरहाहै।

नगरकीआबादीसेकरीबपांचकिलोमीटरगांवलठीरामेंस्थितइसआश्रमकानामगुरुविश्रामवृद्धआश्रमहै।दोमंजिलाइससुंदरभवनमें16हालबनेहैं।आठवृद्धमहिलाओंतोइतनेहीवृद्धपुरुषोंकेलिएहैं।यहांडेढ़सौसेअधिकवृद्धमहिला-पुरुषहैं।यहसभीवोहैं,जिनकाअच्छासमयगुजरगयाऔरजीवनकेअंतिमपड़ावपरपहुंचेतोउन्हेंउनकेअपनोंनेछोड़दिया।यहांरहनेकेसाथ-साथसभीतरहकीसुविधाएंमिलरहीहैं।खानेकोतीनोंटाइमचाय-नाश्ता,भोजनउनकीआवश्यकताकेहिसाबसेदियाजाताहै।चलने-फिरनेमेंअसमर्थवृद्धोंकेलिएट्राइसाइकिलकाइंतजामहै।

वृद्धकीमौतनेजगादीसेवाकीभावना

वृद्धआश्रमपिछलेकरीबआठसालसेसंचालितहैं।यहभवनरातों-रातभव्यबनकरखड़ानहींहोगया।शुरुआतमेंयहदोपलंगवालीझोपड़ीमेंचालूकियागयाथा,लेकिनबादमेंइसेविस्तृतरूपदियाजातारहा।वर्तमानमेंडेढ़सौसेअधिकवृद्धमहिला-पुरुषोंकीसेवाकेकामआरहेहैं।इससराहनीयसेवाकाकार्यडॉ.जीपीभगतकररहेहैं।वहदिल्लीकेगौतमपुरीअलीगांवकेनिवासीहैं।वहांभीउन्होंनेएकआश्रमचलारखाहै।करीबसाठवर्षीयडॉ.भगतअपनीयुवाअवस्थामेंरोजगारकीतलाशमेंथे,लेकिनकोईकामनहींसूझरहाथा।एकरोजसड़ककिनारेपड़े-पड़ेएकवृद्धकीमौतहोगई।उसमौतनेउनकोझकझोरकरदिया।उनकेमनमेंसंकल्पआयाकिइसवृद्धकीदेखभालकीजातीतोयहइसतरहनहींहोता।तभीसेउनकेमनमेंवृद्धोंकीसेवाकीभावनाजागीऔरउसनेयहांतकपहुंचादिया।पहलेदिल्लीआश्रमबनाया,उसकेबादयहांचालूकिया।

देखभालकोबीससेअधिककास्टाफ

आश्रमकीदेखभालकररहेमैनेजरफारुखचौधरीबतातेहैकिआश्रमपररहनेवालेवृद्धोंकीसेवाकोयहांबीससेअधिकलोगोंकास्टाफहरसमयरहताहै,जोउनकेखाने-पीनेसेलेकरहरतरहकीसुविधाकापूराध्यानरखताहै।करीबचालीसबीघावालेआश्रमपरिसरमेंहीगो-शालाभीखोलरखीहै,जिसमें12गायहैं।उनकेदूधसेहीआश्रमकीआवश्यकतापूरीकीजातीहै।बाकीजिम्मेदारीएसबीआइफाउंडेशननेलेरखीहै।इसमेंबतौरमैनेजरदेखभालकरनेवालेनावेदखानकाकहनाहैकिअबयहांवृद्धोंकोबेहतरचिकित्सासेवाप्रदानकरनेकेलिएआधुनिकमेडिकलइकाईभीचालूहोनेवालीहै।इसकाकेंद्रीयरेलराज्यमंत्रीमनोजसिन्हाकोउदघाटनकरनाथा,जोउनकाकार्यक्रमरद होनेकेकारणस्थगितहोगयाथा।

खुशहैंएकसाथइतनोंवृद्धोंकीसेवाकेअवसरसे

वृद्धआश्रमकीदेखभालकरनेवालेनावेदखानकाकहनाहैकिवहखुशनसीबहै,जिसेअपनेअम्मावअब्बूकेसाथदूसरोंकीभीखिदमतकाभीअवसरमिलाहै।वहपिछलेतीनसालसेसभीकीदेखभालकररहाहै।यहांरहकरसभीसेलगावहोगयाहै।यहांरहनेवालेवृद्धभीउसेअपनासमझतेहैं।उसकाकहनाहैकियहांरहनेवालेअधिकांशवोलोगहैं,जोगंभीरबीमारीकेशिकारहोनेपरउनकेघरवालेभीउनसेकिनाराकरलेतेहैं,लेकिनउनकीसेवाकरनाउसेअच्छालगताहै।

By Craig