शारीरिक शिक्षा

देशभरमेंबढ़तेकोरोनासंक्रमणकेबीचदिल्लीकीहालतनाजुकबनीहुईहै.ऐसेमेंजहांएकतरफगुरुवारकोसुप्रीमकोर्टमेंऑक्सीजनकीकिल्लतऔरस्वास्थ्यव्यवस्थापरसुनवाईहुईवहींदिल्लीHCमेंभी Covidकेहालातऑक्सीजन,बेडकीकमीपरसुनवाई शुरूहुई.इसदौरानएनआईसीकेअधिकारीप्रोफेसरसंजयधीरभीकोर्टमेंमौजूदरहे. कोर्टनेसबसेपहलेपोर्टलपररेमडेसिविरकेमामलेपरसुनवाईशुरूकी.बतादेंकिबीतेकलसुनवाईकेदौरानकोर्टकोजानकारीदीगयीथीकिकोरोनापोर्टलपरकेवलरेमडेसिविरकीजानकारीहै.औरकोईदूसरीमेडिसिनकीजानकारीनहींहै.जिसपरनाराजकोर्टनेएनआईसीकेअधिकारीकोतलबकियाथा.

एनआईसीकेअधिकारीनेकोर्टकोबतायाकिअस्पतालोंकोनोटिसदियागयाहै.पोर्टलऑपरेशनलहैऔरकौनसीदवाईउसमेंजोड़सकतेहैं,इसकेलिएस्वास्थ्यमंत्रालयकेजवाबकाइंतजारकररहेहैं. वहींदिल्लीहाईकोर्टनेदिल्लीसरकारकोबड़ाआदेशदियाहै.जिसमेंदिल्लीकेलोगजोकोरोनासंक्रमितहैंउन्हेंइलाजकेलिएमेडिकलसुविधाएंदिल्लीसरकारमुहैयाकराए.दिल्लीहाईकोर्टनेसुनवाईकेदौरानकहाकिसंविधानकाआर्टिकल21लोगोंकोजीनेकाअधिकारदेताहै,जिससेहरव्यक्तिआजादीसेजीसके.

क्लिककरें-कोरोना:दूसरीलहरकाकहर,तीसरीकाडर...क्यासंपूर्णलॉकडाउनलगाएगीमोदीसरकार?

हाईकोर्टनेकहाकिलोगोंकेमौलिकअधिकारोंकीरक्षाकरनेकेलिएउन्हेंशपथदिलाईगईहै.इसलिएहमयहांयेआदेशदेरहेहैं,ताकिइसशख्सकीजानबचपाए.लेकिनउसीसमयहमइसतथ्यकोनहींछोड़सकतेहैंकिशहरमेंहजारोंलोगइसीबीमारीसेपीड़ितहैं.यदियाचिकाकर्ताकीतुलनामेंबदतरनाहोतोउनकीहालतभीउतनीहीखराबहोसकतीहै.

कोर्टनेकहाकिउनका(याचिकाकर्ता)भीवेंटिलेटरसुविधाकेसाथआईसीयूबेडकेलिएबराबरकादावाबनताहै.केवलइसलिएकियाचिकाकर्तानेइसअदालतकादरवाजाखटखटायाहै,अदालतइसतरहकाआदेशजारीतकउसेप्राथमिकताकेआधारपरचिकित्सासुविधादिलानेकेलिएआदेशजारीनहींभीकरसकतीहै. दरअसल,दिल्लीहाईकोर्टमेंगुरुवारकोएक52सालकेव्यक्तिकीयाचिकापरसुनवाईहुई.येशख्सकोरोना संक्रमितहैऔरहालातगंभीरहै.

क्लिककरें-कोरोना:दिल्लीकोपहलीबारमिली730MTऑक्सीजन,केजरीवालबोले-कईलोगोंकीजानबचेगी

इसकेअलावाहाईकोर्टकेसलाहकारनेकोर्टकोबतायाकिहमेंदवाईयोंकास्टॉकरखनापड़ेगाऔरवोभीअस्पतालकेपास.जिससेअगरडॉक्टरकोजरूरतपड़ेतो15-20मिनटमेंवहांदवापहुंचाईजासके.जिसकेचलतेहमेंजल्दसेजल्ददवाईपहुंचानेकीजरूरतहै.कहींनकहींअभीभीहमारेसिस्टममेंगड़बड़ीहै.रेमडेसिविरकेस्टॉककेबारेमेंहमेंमालूमहीनहींहैऔरइन्हीवजहोंसेब्लैकमार्केटिंगहोरहीहै.सुनवाईकेदौरानएकवकीलनेकहाकिरेमडेसिविरकीअभीतककोईजानकारीनहींहै.क्यापोर्टलमेंकोईबदलावकरेंगे?

वहींहाईकोर्टकीडिवीजनबेंचनेकहाकिहमचाहतेहैंकिसप्लाईचैनपूरीतरहसेपब्लिकडोमेनमेंहो.हमेशाऐसाहोरहाहैकिअस्पतालकेपासस्टॉकखत्महोजाताहैऔरहमफिरचर्चाकररहेहोतेहैं.औरयेमरीजकेलिएकाफीदुखदायीऔरनुकसानदायकहोताहै.कईबारतोहमबहुतदेरकरदेतेहैं.

कोर्टकेसलाहकारनेकोर्टकोबतायाकि4-5दिनयाफिर7दिनमेंसिस्टमपूरीतरहदुरुस्तहोजाएगा.हाईकोर्टकानिर्देशहैकिसभीअस्पतालोंकोरेमडेसिविरकास्टॉकदेनाचाहिए.साथहीआईआईटीकेप्रोफेसरसंजयधीरनेकोर्टकोबतायाकिरेमडेसिविरकेलिएडॉक्टरपहलेहीबतासकतेहैं.अस्पतालोंकोपोर्टलपरजानकारीदेनेमेंसमयक्योंलगरहाहै?मालूमनहींचलपारहाहै.केवल4-5कॉलमहीभरनेहै.

क्लिककरें- कोरोनाकीतीसरीलहरमेंबच्चेसंक्रमितहुएतोक्याकरेंगे?SCनेसरकारसेपूछाइमरजेंसीप्लान

एकवकीलनेकोर्टसेकहाकिडॉक्टरसमयनष्टनहींकरनाचाहते.वोसिंपलचाहतेहैंकिमरीजकोअगररेमडेससिविरकीजरूरतहै.तोउन्हें5मिनटमेंमिलजाये.हाईकोर्टनेकहाकिअस्पतालकोस्टॉकदेनाचाहिएरेमडेसिविरकेलिएऔरउन्हेंअकॉउंटेबलबनानाहोगा.हाईकोर्टनेकहाक्याकोईऔरलोगयाअस्पतालहैंजोडेटानहींदेरहेहैं.उन्हेंबतानाहोगा.इसपरकोर्टकेसलाहकारनेकहाकियेहमचेककरकेआपकोजानकारीदेंगे.