शारीरिक शिक्षा

जागरणसंवाददाता,बलिया:शारदीयनवरात्रकेचौथेदिनमंगलवारकोआस्थावानोंनेमांदुर्गाकेकूष्माण्डास्वरूपकीपूजा-आराधनाकी।देवीदरबारमेंआस्थावानोंकीसुबहसेहीकतारलगीरही।

मंदिरोंमेंआठभुजाओंवालीमांदुर्गाकेस्वरूपकोलेकरऐसीपौराणिकमान्यताहैकिइन्होंनेहीसंसारकीरचनाकी।इसीलिएइन्हेंआदिशक्तिकेनामसेभीजानाजाताहै।नवरात्रमेंशैलपुत्री,ब्रह्मचारिणीऔरचंद्रघंटाकेबादमांकूष्माण्डाकीपूजाकीजातीहै।देवीमंदिरोंमेंमांकाभव्यस्वरूपभक्तोंकोआहृलादितकररहाथा।चेहरेपरहल्कीमुस्कान,सिरपरबड़ा-सामुकुटऔरआठोंहाथोंमेंअस्त्रऔरशस्त्रशोभायमानहोरहेथे।चेहरेपरहल्कीमुस्कानलिएमाताकूष्माण्डाकोसभीदुखोंकोहरनेवालीमांकहाजाताहै।मांकूष्माण्डानेहीइससृष्टिकीरचनाकी।मंदिरोंमेंमाताकूष्माण्डाकेपीछेसूर्यकातेजदर्शायागयाथा।

देवीमंदिरोंमेंविधिविधानसेशक्तिकीअधिष्ठात्रीकापूजन-अर्चनकियागया।नगरसमेतग्रामीणांचलोंमेंमांकेदर्शनकेलिएभक्तोंकीभारीभीड़उमड़पड़ी,जहांकोविड-19केनियमोंकीधज्जियांउड़ाईजातीरही।श्रद्धालुओंनेमाताकादर्शनकरपरिवारसहितदेशकीसुख-शांतिऔरसमृद्धिकेलिएप्रार्थनाकी।

शंकरपुरस्थितशांकरीभवानीमंदिर,ब्रह्माइनस्थितमांब्रह्माणीदेवीमंदिर,कपूरीस्थितमांकपिलेश्वरीमंदिर,मंगलाभवानीमंदिर,उजेड़ाकेभवानीमंदिरवखरीदकीभवानीमंदिरमेंमांकेपूजनअर्चनकोआस्थाकासैलाबउमड़ा।श्रद्धालुओंनेपूरीश्रद्धाऔरविश्वासकेसाथमांकापूजन-अर्चनकिया।इसदौरानमांकेजयकारेसेपूराइलाकागूंजतारहा।दूर-दराजसेमांकेदरबारपहुंचेश्रद्धालुओंनेनारियलवचुनरीचढ़ाकरमातारानीसेकुशलताकीकामनाकी।वहींसुरक्षाकेमद्देनजरविभिन्नदेवीमंदिरोंपरकाफीसंख्यामेंपुलिसतैनातरही।

By Cooke