शारीरिक शिक्षा

रांची,[नीरजअम्बष्ठ]।स्वास्थ्यसेसंबंधितबेहतरयोजनाएंतैयारकरने,नीतिबनाने,चिकित्सीयशोधआदिमेंकिसीक्षेत्रमेंहोनेवालीमौतकेकारणोंकीसहीजानकारीजरूरीहै।मृत्युकेकारणोंकेआधारपरहीकेंद्रवराज्यसरकारेंस्वास्थ्यसेसंबंधितअपनीनीतियांतयकरतीहैं,लेकिनहकीकतयहहैकिअधिसंख्यमौतकेकारणोंकापताहीनहींचलपाताहै।रजिस्ट्रारजनरलऑफइंडियाद्वारामेडिकलसर्टिफिकेशनऑफकॉजऑफडेथ(एमसीसीडी)कार्यक्रमकेतहतवर्ष2019मेंहुईमौतकेजुटाएगएआंकड़ोंसेयहीसाबितहोताहै।

इसकेअनुसार,देशकेविभिन्नराज्योंवकेंद्रशासितप्रदेशोंमेंबिहार,झारखंड,उत्तरप्रदेशमेंसबसेकमनिबंधितमौतकामेडिकलसर्टिफिकेशन(चिकित्सीयप्रमाणीकरण)होताहै।रजिस्ट्रारजनरलऑफइंडियाद्वाराहालमेंजारीवार्षिकरिपोर्टएमसीसीडी-2019केअनुसार,वर्ष2018मेंझारखंडमेंमहज4.6प्रतिशतमृत्युकामेडिकलसर्टिफिकेशनहोपायाथा।वर्ष2019मेंयहआंकड़ाबढ़कर5.8प्रतिशतहुआहै।इससेझारखंडसबसेनिचलेस्थानसेएकपायदानऊपरचढ़करनीचेसेदूसरेस्थानपरतोपहुंचगयाहै,लेकिनवर्तमानस्थितिभीठीकनहींकहीजासकती।

वहीं,बिहारइसमेंनौपायदाननीचेखिसकरसबसेनिचलेपायदानपरपहुंचगयाहै।यहांवर्ष2018मेंकुलनिबंधितमृत्युमें13.6प्रतिशतमृत्युकामेडिकलसर्टिफिकेशनहुआथा,लेकिनवर्ष2019मेंमहज5.1प्रतिशतमृत्युकामेडिकलसर्टिफिकेशनहोसका।नीचेसेतीसरेस्थानपरउत्तरप्रदेशहै,जहांमहज6.5प्रतिशतनिबंधितमृत्युकामेडिकलसर्टिफिकेशनहुआ।हालांकियहांभीपिछलेवर्षकीतुलनामेंसुधारहुआहै।पूरेदेशकीबातकरेंतोवर्ष2019में20.7प्रतिशतमृत्युकामेडिकलसर्टिफिकेशनहुआ।वर्ष2018मेंयहआंकड़ा21.1प्रतिशतथा।

इसतरह,इसमें0.4प्रतिशतप्वाइंटकीगिरावटआई।रिपोर्टकेअनुसार,गोवामेंपिछलेतीनसालोंसेशत-प्रतिशतनिबंधितमृत्युकामेडिकलसर्टिफिकेशनहोरहाहै।लक्षद्वीपमेंभी95.8प्रतिशतकवरेजहुआहै।इनदोराज्योंवकेंद्रशासितप्रदेशोंकेअलावामणिपुर,मिजोरमवपुडुचेरीमेंआधेसेअधिकनिबंधितमृत्युकामेडिकलसर्टिफिकेशनहुआहै।अन्यसभीराज्योंवकेंद्रशासितप्रदेशोंमेंआधेसेकमनिबंधितमृत्युकाहीयहसर्टिफिकेशनहोसका।अस्पतालोंकीलापरवाही,रिपोर्टिंगसिस्टमठीकनहींहोने,जागरुकताकाअभावइसकाकारणबतायाजाताहै।

मृत्युकामेडिकलसर्टिफिकेशनक्योंजरूरी

जन्मएवंमृत्युनिबंधनअधिनियम,1979केतहतअस्पतालोंमेंहोनेवालीमृत्युकेकारणोंकामेडिकलसर्टिफिकेशनअनिवार्यहै,ताकिपताचलेकिकिसीव्यक्तिकीमृत्युकिसबीमारीसेहुई।विशेषज्ञोंकेअनुसार,विभिन्नस्वास्थ्यसमस्याओंकेलिएउपयुक्तउपचारात्मकऔरनिवारकउपायकरनेकेलिएनीतिनिर्धारकों,प्रशासकोंऔरचिकित्सापेशेवरोंकेलिएमृत्युकेकारणोंकेआंकड़ेआवश्यकहोतेहैं।

ऐसेहोताहैमेडिकलसर्टिफिकेशन

अस्पतालोंमेंमौतहोनेपरफार्म-4तथाअस्पतालकेबाहरहोनेवालीमौतकेमामलेमें4-एफार्मभरेजातेहैं।यहमेडिकलसर्टिफिकेशनउसचिकित्सकद्वाराकियाजाताहैजोकिसीमरीजकीमृत्युकेसमयउपस्थितहोताहै।रिपोर्टिंगकेलिएसभीसरकारीवनिजीअस्पतालोंकेचीफमेडिकलऑफिसरकोरजिस्ट्रारबनायागयाहै।

किसराज्यमेंकितनेप्रतिशतनिबंधितमृत्युकामेडिकलसर्टिफिकेशन

राज्य-वर्ष2017-वर्ष2018-वर्ष2019

छत्तीसगढ़19.419.821.4

पश्चिमबंगाल:13.012.914.1

हिमाचलप्रदेश:4.515.013.0

उत्तराखंड:7.111.18.9

उत्तरप्रदेश:8.65.16.5

By Daniels