शारीरिक शिक्षा

चेन्‍नैपाकिस्‍तानकेप्रधानमंत्रीइमरानखानऔरआर्मीचीफकमरजावेदबाजवासेमुलाकातकेबादचीनकेराष्‍ट्रपतिशीचिनफिंगअनौपचारिकबैठककेलिएभारतकेदोदिवसीयदौरेपरआरहेहैं।वुहानसमिटकेएकसालबादअबतमिलनाडुकेऐतिहासिकशहरममल्लापुरममेंप्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीऔरचीनीराष्‍ट्रपतिशीजिनपिंगदोनोंदेशोंकेबीचसंबंधोंकोआगेबढ़ानेपरबातचीतकरेंगे।विशेषज्ञोंकेमुताबिकइसबैठकसेभारतजहांपाकिस्‍तानकोसंदेशदेनेकीकोशिशकरेगावहींचीनकीकोशिशअमेरिकाकेसाथट्रेडवॉरकीआगमेंझुलसरहीअपनीअर्थव्‍यवस्‍थापर'गंगा-कावेरीकापानी'डालनेकीहोगी।अंतरराष्‍ट्रीयमामलोंकेविशेषज्ञडॉक्‍टररहीससिंहनेएनबीटीऑनलाइनसेबातचीतमेंकहाकिपाकिस्‍तानचीनकोएकऐसासदाबहारदोस्‍तबतातारहाहैजिसकेसाथउसकेसंबंधशहदसेभीमीठेऔरचट्टानजितनेमजबूतहैं।जम्मू-कश्मीरकोविशेषदर्जादेनेवालेआर्टिकल370कोनिष्प्रभावीकिएजानेकेबादसेपाकिस्‍ताननेभारतकोअलग-थलगकरनेजीतोड़कोशिशेंकीहैं,लेकिनउसेचीनकेअलावाकिसीभीमहत्वपूर्णदेशसेसमर्थननहींमिलाहै।हां,तुर्कीऔरमलयेशियाजैसेमामूलीमहत्वकेदेशोंनेभीपाककेसुरमेंसुरजरूरमिलायाहै।अबचीनीराष्‍ट्रपतिकोअनौपचारिकबातचीतकेलिएममल्‍लापुरमबुलाकरभारतयहसंदेशदेनाचाहताहैकिआर्टिकल370हटानेकेबादभीअन्यदेशतोदूर,पाकिस्तानकेमित्रदेशभीभारतसेकिसीतरहकीदूरीबर्दाश्तनहींकरसकते।डॉक्‍टरसिंहनेकहा,'भारतनेचीनकेराष्‍ट्रपतिकोबुलायाहै।यहअनौपचारिकबैठकअजेंडाऔरलक्ष्यव‍िहीनहै।भारतनेजम्‍मू-कश्‍मीरसेआर्टिकल370कोहटानेकेबादयहकोशिशकीकिदुनियाइसेभारतकाआंतरिकमामलामाने।भारतइसमेंकाफीहदतकसफलरहाहै।'चीनकेयू-टर्नपरभारतसख्त,कांग्रेसबोली-हॉन्गकॉन्गसेघेरोचीनकारवैया'कभीप्रेमऔरकभीघृणा'काडॉक्‍टरसिंहनेकहाकिचीनकाभारतकेप्रतिरवैयाहमेशासेही'कभीप्रेमऔरकभीघृणा'कारहाहै।चीनकोजबभारतकीजरूरतहोतीहैतबवहबहुतप्‍यारीबातेंकरताहैऔरजरूरतखत्‍महोतेहीतीखेबयानदेनेलगताहै।उन्‍होंनेकहाकिइमरानखानऔरचिनफिंगकेबीचमुलाकातकेबादभलेहीचीननेतीखेबयानदिएहों,लेकिनअमेरिकीट्रेडवॉरकीआंचसेझुलसरहेचीनकोभारतकीसख्‍तजरूरतहै।चीनकीपूरीकोशिशहोगीकिनकेवलभारतकेसाथउसकामौजूदाव्‍यापारबनारहेबल्किअमेरिकाकेसाथव्यापारमेंआरहीगिरावटकीभरपाईवहभारतसेकरले।इसीमकसदसेशीचिनफिंगभारतआरहेहैं।फाइलफोटो:वुहानसम‍िटकेदौरानपीएममोदीऔरचिनफिंगउन्‍होंनेकहाकिचीनभारतको'बेल्‍टऐंडरोडपरियोजना'सेजोड़नाचाहताहै,लेकिनइसेभारतने'औपनिवेशिक'मानसिकतासेभराकदमबतायाहै।यहशीचिनफिंगकाड्रीमप्रॉजेक्‍टहैऔरअरबोंडॉलरकीइसपरियोजनाकेपूराहोनेपरचीनपूरीतरहसेबदलजाएगा।वहसॉफ्टपावरकेक्षेत्रमेंदुनियाकीबड़ीशक्तिबनजाएगा।भारतचीनकीचाइना-पाकिस्‍तानइकनॉमिककॉरिडोरप्रॉजेक्ट(सीपेक)काभीविरोधकररहाहैजोपाकिस्‍तानअधिकृतकश्‍मीरसेहोकरजातीहै।'वुहानकेबादचीनकेस्‍वभावमेंखासबदलावनहीं'उन्‍होंनेकहाकिवुहानशिखरबैठककेबादभारत-चीनसंबंधोंमेंकाईखासबदलावनहींआयाहै।हालांकिदोनोंदेशोंकेबीचकोईबड़ासैन्‍यगतिरोधनहींहुआहै।चीनकीसेनाकीघुसपैठमेंभीतोकमीआईहै,लेकिनवुहानकेबादचीनकेस्‍वभावमेंकोईखासबदलावनहींआयाहै।आतंकीअजहरमसूदपरचीनकारुखकाफीसमयबादबदला।एफएटीएफमेंचीनपाकिस्‍तानकासमर्थनकररहाहै।इमरानखानकश्‍मीरकेसाथएफटीएएफकीग्रेलिस्‍टसेपाकिस्‍तानकोबाहरकरानेकेलिएचीनसेमददमांगनेगएथे।एफटीएएफकाअध्‍यक्षअबचीनकाहोनेजारहाहै।यहीनहींचीनपाकिस्‍तानकीविदेशीमोर्चेपरमददलगातारकररहाहै।डॉक्‍टरसिंहनेकहाकिवुहानसेसिर्फगतिरोधकमहुआहै,लेकिनपाकिस्‍तानकोअलग-थलगकरनेकीभारतीयकोशिशमेंचीननेसाथनहींदियाहै,बल्किउल्टेपाकिस्‍तानकीहीमददकीहै।चिनफिंगसेबात,मोदीनेममल्लापुरमक्योंचुना?चिनफिंग-इमरानकेमंसूबोंपरभारतनेफेरापानीविदेशीमामलोंकेजानकारकमरआगाकहतेहैंकिचीनकेराष्‍ट्रपतिजम्‍मू-कश्‍मीरकेमुद्देकोपीएममोदीकेसाथबातचीतकेदौरानउठानाचाहतेथेऔरइसीलिएउन्‍होंनेइमरानखानसेमुलाकातकीथी।हालांकिभारतकेसख्‍तरुखकेबादउन्‍हेंकश्‍मीरमुद्देसेपीछेहटनापड़ाहै।आगानेकहाकिइसबैठककेदौरानचीनऔरभारतमेंरक्षाऔरक्षेत्रीयमुद्दे,व्‍यापार,अफगानिस्‍तानकोलेकरबातचीतहोगी।बेल्‍टऐंडरोडइनिशटिव(बीआरआई)परभीबातचीतहोसकतीहै।फाइलफोटो:वुहानमेंपीएममोदीऔरचीनीराष्‍ट्रपतिआगानेकहाकिडोकलामविवादकेबादचीनकोयहसमझाआगईकिभारतकेसाथसंघर्षठीकनहींहै।भारतअमेरिका,ऑस्‍ट्रेलिया,जापानकेसाथक्‍वॉडकासदस्‍यहै।अगरयहसैन्‍यसंगठनबनताहैऔरभारतइसमेंशामिलहोताहैतोचीनकेलिएमुश्किलहोजाएगी।भारतनेअभीसैन्‍यगठजोड़मेंशामिलहोनेसेइनकारकियाहै।आगानेकहाकिभारतऔरचीनकेबीचकरीब100अरबडॉलरकाव्‍यापारहोताहैऔरयहचीनकेफेवरमेंहै।अबकईक्षेत्रोंमेंभारतचीनकेबाजारमेंप्रवेशकररहाहै।अमेरिकाकेसाथट्रेडवॉरसेचीनकाबहुतज्‍यादानुकसानहोरहाहैऔरभारतभीइससेअछूतानहींहै।इसमुद्देपरदोनोंदेशसाथआसकतेहैं।मोदी-जिनपिंगमुलाकातसेपहलेचीननेदीसलाह,भारत-पाकसंयुक्तराष्ट्रप्रस्तावकेतहतसुलझाएंकश्मीरमुद्दा

By Cooper