शारीरिक शिक्षा

नईदिल्‍लीपिछलेदिनोंअमेरिकीथिंकटैंकर्प्‍यूरिसर्चसेंटरनेएकएनालिसिसजारीकिया।भारतकीआबादीमेंविभिन्‍नधर्मोंकीहिस्‍सेदारीपरकईआंकड़ेसामनेरखेगए।एनालिसिसकेअनुसार,2040sतकमुस्लिमोंऔरहिंदुओंकीप्रजननदरमेंअंतरखत्‍महोजाएगा।सत्‍ताधारीभाजपाकीओरसेमुस्लिमोंकेआबादीबढ़ानेकोलेकरबार-बारदावेकिएगए।भगवापार्टीकहतीहैकिमुस्लिमोंकीआबादीबढ़नेसेहिंदुओंकोखतराहै।दूसरामुद्दाबांग्‍लादेशकेमुस्लिमशरणार्थियोंकाहै।हमारेसहयोगी'टाइम्‍सऑफइंडिया'केलिएएकलेखमेंवरिष्‍ठपत्रकारस्‍वामीनाथनअय्यरलिखतेहैंबीजेपीकीओरसेदिखाएजारहेइनदोनोंडरकेपीछेठोसवजहनहींहै।उन्‍होंनेआंकड़ोंकेआधारपरसमझायाहैकिभारतमेंहिंदुओंकीबहुलताकोकोईखतरानहींहै।21वींसदीखत्‍महोनेतक20%होंगेमुस्लिमआजादीकेबादहुईहरजनगणनामेंमुस्लिमोंकाहिस्‍साबढ़ाहै।1951मेंजहांभारतकीआबादीमें9.8प्रतिशतमुसलमानथे,2011मेंउनकीहिस्‍सेदारीबढ़कर14.2%होगई।इसकेमुकाबलेहिंदुओंकाहिस्‍सा84.1%सेघटकर79.8%रहगया।छहदशकोंमेंमुस्लिमोंकीहिस्‍सेदारीमें4.4%कीबढ़तबेहदक्रमिकरहीहै।यहट्रेंडजारीरहातोइससदीकेअंततकभारतमेंमुस्लिमोंकीआबादी20%सेज्‍यादानहींहोगी।यहबढ़तऔरधीमीहोगीक्‍योंकिमुस्लिमोंऔरहिंदुओंकेबीचप्रजननकाअंतरकमहोरहाहैऔरशायदकुछसालोंमेंखत्‍महीहोजाए।परिवारनियोजनकेतरीकेअपनारहेहैंमुसलमान1992-2015केबीचनैशनलफैमिलीहेल्‍थसर्वेकाडेटाकाफीकुछसामनेरखताहै।इसदौरान,मुस्लिमोंकीकुलप्रजननदर(प्रतिमहिलाबच्‍चोंकीसंख्‍या)4.4सेकाफीकमहोकर2.6परआगई।इसकेमुकाबले,हिंदुओंकीप्रजननदरघटनेकीरफ्तारधीमीरही।1992मेंजहांहिंदुओंकेबीचप्रजननदर3.3थीजो2015में2.1होगई।आंकड़ोंसेसाफहैकिपरिवारनियोजनकीतरफमुस्लिमअबतेजीसेमुड़रहेहैं।20सालऔरफिर...अय्यरलिखतेहैंकिआयबढ़नेकेसाथ-साथमाता-पिताअपनेसारेसंसाधनोंकाफोकसकुछबच्‍चोंपरहीरखनाचाहतेहैं।पूरीदुनियामेंयहीट्रेंडदिखाहैकिजबलोगोंकीआयबढ़ीहैतोप्रजननदरकमहुईहै।भारतमेंमुसलमानज्‍यादापिछड़ेहुएहैंऔरउन्‍हेंप्रतिमहिला2.1बच्‍चोंकीदरतकपहुंचनेमेंवक्‍तलगेगा।प्‍यूरिसर्चसेंटरकेअनुसार,1992मेंहिंदुओंऔरमुस्लिमोंकेबीचप्रजननदरकाअंतर1.1बच्‍चेथाजो2015तक0.5बच्‍चेरहगया।अगरयहीरफ्ताररहीतोदोदशकबादयहअंतरखत्‍महोजानाचाहिए।क्याभारतमेंमुस्लिमोंकीआबादीघटरही?पलायननहींहैआबादीमेंहिस्‍साबदलनेकीबड़ीवजहमाइग्रेशनकोभीआबादीमेंकिसीधर्मकीहिस्‍सेदारीमेंबदलावकीवजहकेरूपमेंदेखाजाताहै।प्‍यूकीरिपोर्टमेंपताचलाकिपिछलीजनगणनामें99%प्रतिशतभारतमेंहीपैदाहुए।यहभीकमलोगजानतेहैंकिभारतमेंदूसरेदेशोंसेजितनेलोगपलायनकरकेआतेहैं,उससेतीनगुनाज्‍यादाबाहरबसजातेहैं।2015में,भारतमेंजन्‍मे1.56करोड़लोगविदेशोंमेंरहरहेथे।इसकेमुकाबले,विदेशोंमेंजन्‍मेकेवल56लाखलोगहीभारतमेंनिवासकरतेहैं।संभवहैकियहआंकड़ाअसलगिनतीसेबेहदकमहो,मगरयहज्‍यादाहै,इसकेभीसबूतनहींहैं।आनेसेज्‍यादाबाहरजातेहैंमुस्लिमभारतमेंबाहरसेआकरबसनेवालोंमेंसबसेज्‍यादाबांग्‍लादेश(32लाख),पाकिस्‍तान(11लाख),नेपाल(5.4लाख)औरश्रीलंका(1.6लाख)केलोगहैं।भारतमेंजितनेमुस्लिमबसनेआरहेहैं,उससेज्‍यादाबाहरजारहेहैं।भारतसे35लाखलोगUAEगएहैं,पाकिस्तानमें20लाखऔरअमेरिकामें20लाखलोगबसगए।भारतकीआबादीमेंमुस्लिमोंकीहिस्‍सेदारीभलेही14.2%होमगरदेशसेबाहरजाकरबसनेवालोंमेंउनकाहिस्‍सा27%है।जबकिआबादीमें79%शेयररखनेवालेहिंदुओंकीबाहरजानेवालोंमें45%हिस्‍सेदारीहै।अय्यरलिखतेहैंकिबीजेपीनेमुस्लिमोंकीआबादीमेंहिस्‍सेदारीऔरशरणार्थियोंकोलेकरजोसवालउठाएहैं,उनमेंदमनहींहैं।अंग्रेजीमेंछपाउनकामूललेखपढ़नेकेलिएयहांक्लिककरें

By Connor