शारीरिक शिक्षा

चन्दौसी:जरूरीनहींहैकिहरबच्चापढ़करडॉक्टरयाइंजीनियरहीबननाचाहताहै।ऐसाभीनहींहैकिहरबच्चेकीतमन्नाआइएएसयाआइपीएसअफसरबननेकीहीहोतीहै।कुछबच्चेबड़ेहोकरगायकबननाचाहतेहैंतोकुछडांसटीचर,कुछकीरुचिबच्चोंकोपढ़ानेकीतरफहोसकतीहैतोकुछकीखेलकूदमें।ऐसेमेंसबसेबड़ीदुविधाहोतीहैअभिभावकोंकेसामने।जाहिरसीबातहैकिहरअभिभावकचाहताहैकिउनकाबच्चापढ़लिखकरबड़ाआदमीबनेऔरखुदकावउनकानामरोशनकरे,लेकिनइसकेलिएबच्चोंपरमानसिकदबावबनानाकहांतकउचितहै?कुछअभिभावकोंकासोचनाहोताहैकिबच्चोंमेंखुदकीसमझनहींहोती,ऐसेमेंवेउनपरअपनीइच्छाएंथोपनेकाप्रयासकरतेहैं,लेकिनयहसहीनहींहै।शिक्षकऔरचिकित्सकभीइसेसहीनहींमानते।उनकामाननाहैकिहरबच्चेकीप्रतिभाकोएकपैमानेपरनहींनापाजासकता।ऐसेमेंबच्चोंकोस्वाभाविकतौरपरआगेबढ़नेदेनाचाहिएऔरभविष्यमेंवहजोबननाचाहताहोउसमेंउसकीमददकरनीचाहिए।

शिक्षाव्यक्तिकीअंतर्निहितक्षमतातथाउसकेव्यक्तित्त्वकासर्वांगीणविकासकरनेवालीएकसततप्रक्रियाहै।यहसमाजमेंएकवयस्ककीभूमिकानिभानेकेलिएविद्यार्थीकासमाजीकरणकरतीहैतथासमाजकासदस्यएवंएकजिम्मेदारनागरिकबननेकेलिएउसेआवश्यकज्ञानतथाकौशलउपलब्धकरातीहै।सीखनेऔरसिखानेकीइसस्वाभाविकप्रक्रियामेंविद्यार्थीकास्वाभाविकविकासहोताहै।विकासकेइसक्रममेंकोईऐसानिश्चितअनुमाननहींकिकौनविद्यार्थीकिसक्षेत्रमेंअपनासर्वश्रेष्ठदेसकताहै।विद्यालयीयस्तरपरपरीक्षाओंमेंप्राप्तअंकबौद्धिकश्रेष्ठताकामापननहींकहेजासकते।इसलियेकमअंकप्राप्तकरनेवालेछात्र-छात्राओंकेमातापिताकोउन्हेंहतोत्साहितकरनेकेस्थानपरउनकीरुचिवक्षमताकेअनुकूलविषयकाचयनकरउचितदिशानिर्धारणमेंसहायताकरउनकामनोबलबढ़ानाचाहिये।यहभीध्यानरखनाचाहिएकिबच्चाबड़ाहोकरक्याबननाचाहताहै।यदिउसकीरुचिकुछरचनात्मककार्यकरनेमेंहैतोउसपरमेडिकलयाइंजीनिय¨रगकाबोझलादनाकिसीभीदशामेंउचितनहींहोगा।ऐसेमेंबच्चोंकेकोमलमनपरअनावश्यकदबावपड़ेगाऔरनतोवहवोबनपायेगाजोवहखुदबननाचाहताहैऔरनहीवहबनेगाजोउसकेअभिभावकचाहेंगे।इसलिएबच्चोंकाबौद्धिकज्ञानपरखतेहुएउन्हेंविकासकीप्राकृतिकदिशामेंबढ़नेदें।

डॉ.रीता,एसोसिएटप्रोफेसर,एनकेबीएमजीकॉलेज,चन्दौसी

हाईस्कूलबच्चोंकीपहलीसीढ़ीएवंबोर्डपरीक्षाहोतीहै।परीक्षाकेसमयपूरामानसिकदवाबबच्चोंपररहताहै,साथहीअभिभावकोंभीउनपरनिरंतरअच्छेअंकलानेकेलिएदबावबनातेहैं।12वींकीपरीक्षाकेबादबच्चायाअभिभावकतैयारहोतेहैंकिउनकोकिसक्षेत्रमेंजानाहै।दोनोंहीपरीक्षाओंमेंअच्छेअंकलानाछात्रोंऔरअभिभावकोंकी¨चताबनीरहतीहै।इसलिएआनेवालेपरिणामदिवसपरयापहलेअभिभावकोंकोबच्चोंकेसाथमित्रवतव्यवहारकरनेकीआवश्यकताहै,क्योंकिपरीक्षापरिणामसेज्यादाबच्चोंकेकोमलमनमेंअभिभावकोंकीप्रतिक्रियाओंकाज्यादाप्रभावहोताहै,जिसकेकारणपरिणामआनेसेपूर्वहीवेनकारात्मकसोचमेंडूबजातेहैऔरगलतकदमउठालेतेहै।ऐसेमेंअभिभावकोंकोअपनेधैर्यपूर्णबर्तावकोदिखानाहोगाएवंबच्चेकाउत्साहवर्धनकरनाहोगा,क्योंकिपरीक्षादोबाराभीहोसकतीहैलेकिनबच्चेद्वाराउठायागयाएकगलतकदमअभिभावकोंकासंसारउजाड़सकताहै।भविष्यबनानेकोलेकरभीअभिभावकोंद्वाराबच्चोंपरअनावश्यकदबावनहींबनानाचाहिए।बच्चाजोबननाचाहे,कॅरियरकेलिएजोदिशाचुननाचाहे,उसेसहर्षचुननेदें,नहींतोअनावश्यकदबावउसेकहींकानहींछोड़ेगा।

डॉ.टीएसपाल,चिकित्सक,चन्दौसी।

By Cox