शारीरिक शिक्षा

दरभंगा।बेनीपुरक्षेत्रकेबहेड़ाप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रकीहालतदिन-प्रतिदिनबदतरहोतीजारहीहै।अस्पतालमेंडॉक्टरोंएवंनर्सोंकेघोरअभावकेकारणमरीजोंकासमुचितइलाजनहींहोपारहाहै।अस्पतालमेंडॉक्टरोंके6पदस्वीकृतरहनेकेबावजूदवर्तमानमेंप्रभारीचिकित्सापदाधिकारीकेरूपमेंडॉ.अमरनाथझाएवंडॉजीएन¨सहहीकार्यरतहैंजबकिसंविदापरडॉ.अर्चनास्नेही,श्रीधरशर्माऔरआयुषचिकित्सकडॉ.इजाजअहमदबहालहैं।इसअस्पतालकेअधीनचलरहेकुल14उपस्वास्थ्यकेंदोंपरबराबरतालालटकारहताहै।बतायाजाताहैकिउपस्वास्थ्यकेंद्रपरनतोडॉक्टरहीजारहेहैंऔरनहीनर्सजिसकेकारणग्रामीणइलाकोंमेंस्वास्थ्यसेवापूरीतरहचौपटहोगईहै।बतायाजाताहैकिअस्पतालमेंमरीजोंकोभोजन,कपड़ाधुलाई,एवंजेनरेटरसेवाउपलब्धकरवानेकेलिएएनजीओकोजिम्मेवारीसौंपीगयीथीलेकिनएनजीओअस्पतालप्रशासनकीमिलीभगतसेनतोमरीजोंकोभोजनहीउपलब्धकरवारहीहैऔरनहीबेडपरचादरहीबिछाईजारहीहै।शामहोतेहीअक्सरअस्पतालअंधकारमेंडूबजाताहैजिसकेकारणमरीजोंकोभारीपरेशानीउठानीपड़रहीहै।इसअस्पतालमेंमरीजोंकोअस्पतालसेअधिकांशदवानहींदीजातीहै।दैनिकजागरणटीमनेऑनदस्पॉटकार्यक्रमकेतहतबहेड़ाप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रकाजायजालिया।

10बजे:अस्पतालकेप्रभारीचिकित्सापदाधिकारीडॉ.अमरनाथझाअपनेकक्षमेंनहींथे।कईकर्मियोंकाकहनाथाकिवेबेनीपुरमेंअपनेनिजीक्लिनिकमेंमरीजोंकोदेखरहेहैं।अस्पतालकेआउडडोरमेंडॉजीएन¨सहकुछमरीजोंकोदेखरहेथे।डॉ.अर्चनास्नेही,डॉश्रीधरशर्मा,आयुषचिकित्सकडॉ.ईजाजअहमदकाकहींअता-पतानहींथा।अस्पतालकेस्वास्थ्यउपप्रबंधककेकक्षमेंबीसीएएफकेपदपरकार्यरतराजीवरंजनप्रभारीस्वास्थ्यउपप्रबंधककेरूपमेंकार्यकररहेथे।जबकिअस्पतालकेलेखापालकेकक्षमेंलेखापालसंजयझामौजूदथे।उनकेकक्षमेंजननीबालसुरक्षायोजनाकीलाभार्थीशोरमचारहीथी।

10.30बजे:अस्पतालकेदवाकाउंटरपरबीएचडब्ल्यूराजकुमाररंजनऔरडाटाऑपरेटरधनंजयकुमारमौजूदथे।जबकिअस्पतालकेएककक्षमेंमूल्यांकनडाटासहायककेरूपमेंकार्यरतराजीवकुमारझा,डाटाऑपरेटरविनीतमयंक,मलेरियानिरीक्षकराकेशकुमार,बीएचडब्ल्यूजगदीशयादवएवंचन्द्रकिशोरमौजूदथे7जबकिएकबीएचड्ब्ल्यूनरेशझाअनुपस्थितथे।

कर्मियोंकाघोरअभाव

अस्पतालमेंफर्मासिस्टएवंस्टोरकीपरकापदवर्षोंसेखालीपड़ाहै।ड्रेसरकेदोपदस्वीकृतहैंलेकिनवर्तमानमेंएकड्रेसरकेरूपमेंशैलेन्द्रकुमारहीकार्यकररहेहैंजबकिअस्पतालमेंस्वास्थ्यउपप्रबंधककापदमहीनोंसेखालीपड़ाहै।कालाजारपर्यवेक्षक,कालाजारटेकनिशियनसुपरवाइजरएवंलैबटेकनिशियनकापदभीवर्षोंसेखालीपड़ाहै।

अस्पतालमेंदवाकीहैघोरकमी

बतायाजाताहैकिअस्पतालमेंकुत्ताकाटनेकीसूईमहीनोंसेनहींहै।वहींअस्पतालमेंकालाजारकीदवाएवंसूईउपलब्धनहींहै।हैलोजनटेबलेट,गैमेक्सीनपॉडरकाअता-पतानहींहै।बतायाजाताहैकिब्लि¨चगपाउडरअस्पतालसेगायबहै।

मरीजोंकोनहींमिलताभोजनऔरदवा

अस्पतालमेंदिखानेआएमरीजबेकलतांती,सुमित्रादेवी,सोनीदेवी,रुकसानाबेगमसहितकईमरीजोंकाकहनाथाकिइसअस्पतालमेंभर्तीहोनेवालेमरीजोंनतोअस्पतालकीओरसेदवादीजातीहैऔरनहीभोजन।उनकाकहनाथाकिअस्पतालमेंबेडोंकीघोरकमीकेकारणकभी-कभीमरीजोंजमीनपरसुलाकरइलाजकियाजाताहै।बेडोंपरकभीचादरनहींदीजातीहै।अस्पतालमेंबराबरशौचालयमेंगंदगीभरेरहनेकेकारणयहांभर्तीहोनेकेलिएआनेवालेमरीजोंकोभारीपरेशानीउठानीपड़रहीहै।अस्पतालकेस्नानागारवर्षोंसेबंदपड़ाहै।बतायाजाताहैकिस्नानागारकाउद्घाटनतत्कालीनमंत्रीअश्विनीचौबेद्वाराकियागयाथा।

मरीजोंकाकियाजाताइलाज

प्रभारीउपस्वास्थ्यप्रबंधकराजीवरंजनकाकहनाथाकिसरकारद्वाराउपलब्धकरवाएगएडॉक्टरों,नर्सोंएवंसंसाधनोंकेअनुरूपअस्पतालमेंमरीजोंकाइलाजकियाजाताहै।उनकाकहनाथाकिअस्पतालमेंडॉक्टरोंएवंनर्सोंकीघोरकमीहै।जिसकेसंबंधमेंप्रभारीचिकित्सापदाधिकारीडॉक्टरअमरनाथझानेसिविलसर्जनकोकईबारपत्रलिखाहै।

By Collier