शारीरिक शिक्षा

संवादसूत्र,फिरोजपुरकैंट:सामाजिकसमरसतामंचफिरोजपुरकीओरसेभारतरत्नबाबासाहेबडा.भीमरावआंबेडकरकेपरिनिर्वाणदिवसकेउपलक्ष्यमेंस्थानीयशीतलामातामंदिरमेंकार्यक्रमआयोजितकियागया।कार्यक्रममेंसंतबाबाकर्मनाथमटीलीवालेकेकार्यक्रमकेअध्यक्षराष्ट्रीयअनुसूचितजातिआयोगकेअध्यक्षविजयसांपलामुख्यतिथिऔरहरियावलपंजाबसंगठनकेअध्यक्षरामगोपालमुख्यवक्ताकेतौरपरपहुंचे।

इसमौकेपरविजयसांपलानेकहाकिडा.आंबेडकरवास्तवमेंएकअनुसूचितजातिकेनेताकेबजायएकराष्ट्रनिर्माताऔरएकवैश्विकनेताथे।कार्यक्रमकेमुख्यवक्तारामगोपालनेकहाकिडा.आंबेडकरकाजीवनबड़ाव्यापक,विस्तृतऔरबहुआयामीथा।उन्होंनेकहाकिउन्हेंस्वतंत्रभारतकेपहलेकानूनमंत्रीकेरूपमेंचुनागयाऔरसंविधानप्रारूपणसमितिकेअध्यक्षकेरूपमेंनियुक्तकियागयाथा।उनकीभूमिकाभारतकेलिएएकनयासंविधानलिखनाथा।समाजमेंसमानतालानेकेलिएध्यानमेंरखतेहुएउन्होंनेअछूतोंकेलिएमहानकार्यकिया।इतनाहीनहीं,बल्कि1934मेंभारतीयरिजर्वबैंककीरचनाभीबाबासाहेबकेविचारोंपरआधारितथीजिसेउन्होंनेहिल्टनयुवाआयोगकोप्रस्तुतकियाथा।

इसअवसरपरसंतबाबाकरमनाथ(मटीलीवाले)नेकहाकिबाबासाहेबनेअधिकारोंकेलिएलोगोंकोजागरूककिया,संगठितकिया,अनुशासितकिया,लोगोंकोस्वाभिमानीबनाया,शिक्षितहोनेकाआह्वानकिया,अपनेअधिकारलेनेकेलिएलोगोंकोएकत्रितकियाऔरकईआंदोलनसफलकिए।

इसअवसरपरडिप्टीकमिश्नरदविदरसिंहनेभीकार्यक्रममेंविशेषअतिथिकेरूपमेंउपस्थितहोकरबाबासाहेबकोश्रद्धाकेफूलभेंटकिएऔरसामाजसेवकजगदीपसिंहसंधुद्वाराविचारप्रकटकिएगए।

By Daly