शारीरिक शिक्षा

लॉकडाउनकेचलतेहजारोंलोगअपनेघरसेदूरदूसरेशहरोंमेंफंसेहुएहैं।उन्हेंघरजानेकेलिएपरमिशननहींमिलरहीहै।इनमेंसेकईऐसेहैं,जिनकेपासअबघरमेंखानेकोकुछनहींबचा।वहीं,कुछमहिलाएंभीहैं,जोगर्भवतीहैं।उन्हेंअबअपनेहोनेवालेबच्चेकीचिंतासतारहीहै।वेचाहतीहैंकिघरपहुंचजाएं,ताकिबच्चेकाअच्छेसेजन्महोसके।इसकेबादउसकीदेखभालमेंभीकोईपरेशानीनहींआए।यहमहिला7महीनेकीगर्भवतीहै।सौराष्ट्रकीरहनेवालीइसमहिलाकेपतिकाकामछूटगयाहै।अबउन्हेंचिंताअपनेहोनेवालेबच्चेकीहै।इसनेऑनलाइनपरमिशनकेलिएआवेदनदियाथा,लेकिनउसेरिजेक्टकरदियागया।यहमहिलापरमिशनकेलिएकलेक्टरकार्यालयपहुंचीथी।इसदौरानउसकीआंखोंमेंआंसूनिकलपड़े।

यहहैं28वर्षीयवनिताबेनकिरीटभाईविथलभाईबुटाणी।मूलत:राजकोटकेजेतपुरतहसीलकेथाणागालोडकीरहनेवालीहैं।येअभीवराछामेंकिरायेसेरहतीहैं।इनकीडेढ़सालपहलेशादीहुईथी।ये7महीनेकीगर्भवतीहैं।पतिएम्ब्रायडरीकाकामकरतेहैं।लेकिन2महीनेसेबेरोजगारहैं।एकमहीनेतकपड़ोसियोंनेइनकीमददकी।लेकिनअबयेअपनेघरजानाचाहतीहैं।जबऑनलाइनपरमिशननहींमिली,तोयेकलेक्टरकेपासपहुंचगईं।

यहतस्वीरगुरुग्रामकीहै।खानेकाइंतजामकरनेनिकलीएकयुवती।

यहतस्वीरचंडीगढ़कीहै।लॉकडाउनमेंफंसीमहिलाकोजबउसकेघरजानेसेरोकदियागया,तोउसकेआंसूनिकलपड़े।

यहतस्वीरलखनऊकीहै।लॉकडाउनकेबीचअपनीघर-गृहस्थीकासामानलातींमहिलाएं।

रांचीमेंअपनेकोविडटेस्टकेइंतजारमेंखड़ीगर्भवतीमहिला।

यहतस्वीरनईदिल्लीकीहै।लॉकडाउनने गरीबोंकेलिएबड़ासंकटखड़ाकरदियाहै।

By Daniels