शारीरिक शिक्षा

संसू,खलारी:खलारीमेंबनीलक्ष्मी-गणेशकीमूर्तियाकेवलखलारीवआसपासनहींबिकेगी,बल्किराजधानीराचीकेबाजारमेंभीउपलब्धहोंगी।येमूर्तियाखलारीकेजेहलीटाड़मेंरहनेवालेकुम्हारोंनेबनाईहै।जेहलीटाड़मेंकरीबडेढ़दर्जनकुम्हारपरिवाररहतेहैं।इनमेंलक्ष्मी-गणेशकीमूर्तियाबनानेवालोंमेंप्रमोदप्रजापति,पप्पू,राजू,हरिमनोजआदिशामिलहैं।राचीकेमूर्तिव्यवसायीखलारीकेजेहलीटाड़कुम्हारटोलीसेकरीबदसहजारलक्ष्मी-गणेशकीमूर्तियाखरीदकरलेगएहैं।इससंबंधमेंजानकारीदेतेहुएप्रमोदप्रजापतिनेबतायाकिजेहलीटाड़कुम्हारबस्तीमेंइसवर्षकरीबबीसहजारलक्ष्मी-गणेशकीमूर्तियाबनाईगईहैं।खुदराबाजारमेंयेमूर्तियासत्तररुपयेसेलेकर700रुपयेतकबेचीजाएंगी।जेहलीटाड़कुम्हारबस्तीमेंकेवलदीवापलीकेअवसरपरमूर्तिया,दीये,वमिट्टीकेअन्यसामानमिलाकरकरीबबारहलाखरुपयेकाकारोबारहोताहै।प्रमोदप्रजापतिज्यादातरबड़ीमूर्तियाभीबनातेहैं।वेइसवर्षमाकालीकीसातमूर्तियाबनारहेहैं।इनकुम्हारोंनेडेढ़सेदोमाहकीमेहनतमेंसारीमूर्तियोंकोबनायाहै।मूर्तियोंकोगढ़नेसेलेकररंग-रोगनमोतियोंसेजड़ने,मुकुट,वस्त्रआदिपहनानेमेंइनकुम्हारोंकेपूरेपरिवारकोलगनाहोताहै।खासकरपरिवारकीबेटियोंकीअहमभूमिकाहोतीहै।मूर्तियोंकेसाज-सज्जाकेसामानकोलकतातकसेखरीदाजाताहै।स्थानीयस्तरपरकुछरंगकीखरीदारीहोतीहै।

मूर्तियोंकेनिर्माणमेंभीहैश्रद्धा

खलारी:ऐसानहींहैकिलक्ष्मी-गणेशकीमूर्तियोंकेप्रतिपूजनकेबादहीश्रद्धाहोगी।इन्हेंबनानेवालेकुम्हारपरिवारभीभगवानकीइनमूर्तियोंकेप्रतिश्रद्धारखतेहैं।जहामूर्तियारखीहोतीहै,वहाकोईजूता-चप्पलपहनकरनहींजाता।गढ़नेसेलेकरपैकिंगतकइसबातकाख्यालरखाजाताहैकिमूर्तियाभगवानकीहैं।

राची-पतरातूकेव्यापारीखरीदलेगएहैंदोलाखदीये

राचीऔरपतरातूकेव्यापारीयहासेकरीबदोलाखदीयाखरीदकरलेगएहैं।खलारीमेंकेवलजेहलीटाड़काएकलाखदीयाबिकेगा।इसकेअलावाखलारीबाजारटाड़वअन्यजगहोंकेकुम्हारभीदीयाआदिबनाएहैं।प्रमोदप्रजापतिनेबतायाकिकुम्हारसंघनेखुदराबाजारमेंइसवर्षदीयोंकामूल्यडेढ़सौरुपयेप्रतिसैकड़ातयकियाहै।जेहलीटाड़काहरकुम्हारपरिवारइनदिनोंदीयेबनानेमेंलगाहै।दीपावलीकाबाजारसेकोईपरिवारचूकनानहींचाहता।कुछकुम्हारबिजलीचलितचाककाभीइस्तेमालकरतेहैं।जिसेकुछनेजुगाड़सेबनायाहै,तोकुछराज्यकेमाटीकलाबोर्डसेरियायतदरपरखरीदेहैं।

By Cooke