शारीरिक शिक्षा

नयीदिल्ली,5दिसम्बर:भाषा:राष्ट्रपतिरामनाथकोविंदनेआजछात्रोंकेलियेभविष्यकेलक्ष्योंकाखाकापेशकरतेहुएविद्यार्थियोंसेअपीलकीकिवेहाशियेपरखड़ेऔरपीछेछूटगएलोगोंकीमददकरेंक्योंकिसमाजनेउन्हेंजोदियाहै,उसेवापसकरनाउनकाकर्तव्यहै।राष्ट्रपतिनेआजआगरामेंडॉ.भीमरावअम्बेडकरविविद्यालयके83वेंदीक्षांतसमारोहकोसंबोधितकरतेहुएकहाकिआजजोछात्रडिग्रीहासिलकररहेहैं,वेअपनेभविष्यकालक्ष्यनिर्धारितकरेंगे।उन्होंनेकहा,आपजोभीलक्ष्यनिर्धारितकरें,उसेहासिलकरनेकेलियेकठिनपरिश्रमकरें।आपआपनीप्रगतिकेसाथउनलोगोंकाभीध्यानरखेंजोपीछेछूटगएहैं।कोविंदनेकहाकिइसविविद्यालयकालगभगनौदशकोंकाउत्कृष्टइतिहासरहाहै।इसविविद्यालयनेदेशकोराष्ट्रपति,प्रधानमंत्रीऔरअन्यविशिष्टव्यक्तिसमर्पितकिएहैं।उन्होंनेविद्यार्थियोंसेकहाकिवेइसदीक्षांतसमारोहकोशिक्षाकीयात्राकीसमाप्तिनसमझों।यहदीक्षांतसमारोहजिम्मेदारियोंऔरसीखनेकेनयेचरणकाशुभारंभहै।उन्होंनेकहाकिउनकीशिक्षाकेक्षेत्रमेंकईलोगोंकायोगदानरहाहै,जिसमेंउनकेमाता-पिता,अध्यापक,परिवारकेसदस्यऔरसरकारीएवंसमाजकेलोगोंकामहत्वरहाहै।इनकेसहयोगसेवेस्नातकस्तरकीशिक्षाप्राप्तकरपाएहैं,हमारेदेशमेंलाखोंलोगोंकोयहअवसरप्राप्तनहींहोपाता।इसलिएस्नातकविद्यार्थियोंकायहकर्तव्यबनताहैकिवेसमाजकोकिसीभीरूपमेंइसयोगदानकोवापसलौटासकेंऔरमानवताकेलिएकार्यकरें।राष्ट्रपतिसचिवालयकीविग्यप्तिकेअनुसार,राष्ट्रपतिनेकहाकिडॉ.भीमरावअम्बेडकरविविद्यालयनेएकप्राथमिकविद्यालयकीदेखरेखकाजिम्मालियाहै,जिसमेंसाधनहीनबच्चोंकोशिक्षादीजारहीहै।इसकेअतिरिक्तयहविविद्यालयकॉर्नियाप्रतिरोपणकार्यक्रमचलारहाहैऔररक्तदानशिविरोंकाआयोजनकरताहै।कोविंदनेछात्रोंकेऐसेप्रयासोंकीप्रशंसाकरतेहुएकहाकियेवास्तवमेंसराहनीयहै।ऐसेप्रयासोंसेविद्यार्थीसंवेदनशीलबनतेहैंऔरसमाजकेप्रतिउारदायित्वकीभावनाकाविकासहोताहै।राष्ट्रपतिनेविासव्यक्तकियाकियहविविद्यालय21वींसदीकीचुनौतियोंकेलिएहमारीयुवापीढ़ीकोतैयारकरनेकीसार्थकभूमिकानिभानाजारीरखेगा।भाषादीपक