शारीरिक शिक्षा

नईदिल्ली: पिछलेसालआईकोरोनावायरसमहामारीकेबादसेदेशकीअर्थव्यवस्थाकोकाफीनुकसानपहुंचाहै.हालांकिअबअर्थव्यवस्थामेंसुधारहोरहाहैऔरहरदिनशेयरबाजारभीनएरिकॉर्डकायमकररहाहै.इसबीचरेटिंगएजेंसीआईसीआरएनेअनुमानलगायाहैकिदिसंबरक्वॉर्टरमेंभारतकीजीडीपीग्रोथ0.7फीसदीरहसकतीहै.ऐसाहुआतोपिछलेसाललॉकडाउनसेशुरूहुईमंदीखत्महोजाएगी.

आईसीआरएनेअपनीरिपोर्टमेंकहाहैकिनिजीखपतऔरसरकारीखर्चसेअर्थव्यवस्थाकोदिसंबरतिमाहीकेदौरानबदलावलानेमेंमददमिलेगीऔरजीडीपी0.7%बढ़ेगी.रेटिंगएजेंसीकेमुताबिकदूसरीतिमाहीमेंजीडीपीग्रोथशून्यसे7.5फीसदीकेनीचेरहीथी.

रेटिंगएजेंसीकाअनुमानहैकिफॉर्मलइकोनॉमीकोरोनावायरसकेसंकटसेउबारचुकीहै.छोटेऔरकमफॉर्मलसेक्टरकीकीमतपरउसकीसेहतमेंसुधारआरहाहै.उसकेचलतेइकोनॉमीकेफॉर्मलाइजेशनकेप्रोसेसमेंभीतेजीआरहीहै.

उबरनेकीराहपरहैभारतीयअर्थव्यवस्था:एसएंडपी

वहीं,एसएंडपीग्लोबलरेटिंग्सनेभीकहाकिभारतीयअर्थव्यवस्थाएकअप्रैलसेशुरूहोरहेअगलेवित्तवर्षमेंउबरनेकीराहपरहै.एजेंसीनेकहाकिकृषिक्षेत्रकेलगातारअच्छेप्रदर्शन,कोरोनासंक्रमणकीकमहोतीरफ्तारऔरसरकारीव्ययमेंतेजीसेअर्थव्यवस्थाकोसमर्थनमिलरहाहै.एसएंडपीनेकहाकिपुनरुद्धारजारीरखनेकेलियेभारतकोकईचीजोंकोसहीकरनेकीजरूरतहै.भारतकोशीघ्रतासेअपनी1.4अरबकीआबादीकोटीकेलगानेकीजरूरतहै.

एजेंसीनेकहाकिवित्तवर्ष2021-22काबजटभीअपेक्षितसेअधिकखर्चोंकेमाध्यमसेपुनरुद्धारकासमर्थनकरेगा.भारतकीवृद्धिकीसंभावनाएंउसकेअधिकआक्रामकराजकोषीयरुखसेजुड़ेउच्चघाटेकोसंभालेरखनेकीक्षमताकेलियेमहत्वपूर्णहैं.एजेंसीनेकहाकिहमअनुमानलगातेहैंकिभारतउत्पादनकेमोर्चेपरमहामारीसेपहलेकीगतिकीतुलनामेंएकस्थायीनुकसानकासामनाकरनेजारहाहै,जोसकलघरेलूउत्पाद(जीडीपी)केकरीब10फीसदीकेबराबरकादीर्घकालिकहोसकताहै.

पेट्रोल-डीजलफिरमहंगा:राजस्थानकेश्रीगंगानगरमें100रुपएलीटरहुआपेट्रोल,जानेंदिल्ली-मुंबईकाहाल

टूलकिटकांडमेंसातवांनामआयासामने,धालीवालकीसहयोगीअनितालालभीपुलिसकेरडारपर

By Cooper