शारीरिक शिक्षा

बक्सर:पंचकोसीमहोत्सवमेंरविवारकोरहमतुल्लाहअल्लैहकीदरपरश्रीरामकाप्रसादलिट्टी-चोखाआस्थाकेसमंदरमेंआपसीसौहार्दऔरप्रेमकीगाथाबयांकररहाथा।दरअसल,किलामैदानकेआस-पाससबसेअधिकभीड़थी।इसकारणश्रीरामकोनमनकरनेआएश्रद्धालुओंनेएकांतजगहदेखकरदरियाशहीदबाबाकेमजारकेप्रांगणमेंभीडेराडाललियाऔरश्रद्धाऔरविश्वासकेसाथलिट्टी-चोखाकाप्रसादबनाएऔरग्रहणकिए।

मेलेमेंलोगोंकेपहुंचनेकाक्रमतड़केसेहीजारीथा।श्रद्धालुओंसेकिलामैदानकेअलावानाथबाबाघाट,रानीघाट,बुढ़वाघाटसमेतसुमेश्वरनाथघाट,सिपाहीघाटआदिस्थलोंकेआसपासभीभक्तजनलिट्टीकीसिकाईकररहेथे।इसदौरानव्यंजनमेंप्रयुक्तहोनेवालीसामग्रियोंकेलिएदर्जनोंअस्थाईदुकानेंभीखुलीहुईथीं।मेलेमेंखाने-पीनेकेसामानोंकेअलावाश्रृंगारप्रसाधनऔरखिलौनेभीबिकरहेथे।मौकेपरबैलूनबेचरहामो.सागीरबतारहाथाकिगतवर्षकोरोनासंक्रमणकोलेकरमेलामेंकमलोगथे।परंतुइसबारश्रद्धालुओंकीजुटीभीड़काफीअधिकहै।यहीबातठेलापरसब्जियांबेचरहासोनूबतारहाथाकिपिछलेसालकाफीसमानबचगयाथापरअबकीबारमेलामेंदमहै।

हालांकि,मेलेमेंसबसेअधिकसंख्यामहिलाओंकीदिखरहीथी।दरियाबाबाकेमजारपरिसरमेंलिट्टीसेंकरहीकोपवांकीमनसादेवीवबिमलादेवीकाकहनाथाकियहांएकांतजगहदेखकरवेलोगआगए।वेबतारहीथींकिइसउत्सवमेंबिहटाऔरफतुहासेभीउनकेरिश्तेदारपहुंचेहुएहैं,जोएकदिनपहलेहीयहांआगएथे।वहीं,कुदरासेआएमंतोषसिंहनेबतायाकिविगतकईवर्षोंसेवोइसमेलेमेंलगातारपरिवारकेसाथशिरकतकरतेआरहेहैंऔरयहांआकरलिट्टीबनानाऔरमैदानमेंसबकेसाथमिलकरखानेकाआनंदहीअलगहोताहै।गाजीपुरकेमैनेजरसिंह,रसड़ाकेत्रिभुवनशर्मा,बलियाकेमाधवसिंहआदिनेकहाकिट्रेनसेउतरकरइसरास्तेसेआनाजानाबराबरलगारहताहै।सोइसमेलाकाकाफीनामसुनाथाऔरजितनासुनाथाउससेबढ़करपायाहै।धन्यहैंइसविश्वामित्रभूमिकेलोगजिन्हेंऐसेआयोजनोंमेंबराबरशिरकतकरनेकामौकामिलताहै।