शारीरिक शिक्षा

वाराणसी,जेएनएन। काशीकीधरोहरोंमेंप्रमुखअसिघाटपरहोनेवालेसुबह-ए-बनारसकाआरंभफिरसेलगभगसाढ़ेआठमहीनेबादमंगलवारकोहोगया।विगतकईवर्षोंसेचलरहेइसधार्मिक,आध्यात्मिकवसांगीतिककार्यक्रमकोकोविड19संक्रमणकेकारण19मार्चसेबंदकरदेनापड़ाथा।असिघाटपरइसकार्यक्रमकेतहतप्रतिदिनहोनेवालेयज्ञ,गंगाआरती,योगऔरसंगीतकीधाराएंप्रवाहितहुईंतोगंगाकिनारेपुनःएकबारअलसुबहसूर्योदयकीबेलामेंरौनकलौटआई।यज्ञकीअग्निनेउदयाचलपरउदितहोरहेभगवानभास्करकास्वागतकियातोशंखध्वनियोंवप्रभातीरागोंनेमांगंगाकीधराओंकेसाथआलिंगन।

सुबहएबनारसकेतत्वावधानमेंसूर्योदयकेपूर्वसेपाणिनिकन्यामहाविद्यालयकीऋषिकन्याओंकेवैदिकऋचाओंकेसस्वरपाठसेयज्ञकीआहुतिप्रज्ज्वलितहईतोश्रद्धालुओंनेअपनीओरसेयज्ञवेदिकामेंसमिधाअर्पितकरनेशुरूकरदी।सूर्योदयहोतेहीबटुकोंनेभीमांगंगाकीआरतीकरभव्यताप्रदानकी।शास्त्रीयसंगीतपरआधारितप्रभातीकीप्रस्तुतिवयोगकेविविधआसनोंनेसोनेमेंसुहागाकाकार्यकिया। युवागायकप्रियांशुघोषनेप्रभातकालीनराग कोमलऋषभआसवारी कीप्रस्तुतिसेइसकाश्रीगणेशकिया।आरंभविलंबितएकतालमेंनिबद्धबंदिशसेकी।जिसकेबोलथे जागपड़ेमैंतोभोरे।इसकेउपरांतमध्यलयएकतालमें निबद्धरचनासुनायाजिसकेबोलथे तृषितहियाशीतलकरो।उन्होंने तीनतालमेंनिबद्ध स्वरचितरचनाभीसुनायाजिनकेबोलथे आओगावोसबकोरिझावो। गायनकासमापनहुआरागभैरवीसेजिसके बोलथे निर्धनकेधनराम।तबलासंगतिरहीडॉसंदीपराव केवलेकीतथाहारमोनियमसंगति  मानसपरिडानेसंगतकी।

कार्यक्रमकेआरम्भ मेंसुबहएबनारसकेसंस्थापकसचिवडॉरत्नेशवर्मानेसभीकोशारीरिकदूरीबनायेरखनेएवममास्ककाप्रयोगकरनेकीजरूरतबताई।कार्यक्रममेंअंतमेयोगसत्रका मार्गदर्शनयोगगुरुपंविजयप्रकाशमिश्रनेकिया। संचालनडॉप्रीतेशआचार्यनेकिया।इसअवसरपरसुबहएबनारसकेउपाध्यक्षश्रीप्रमोदमिश्रनेइसआयोजनकेपुनःआरम्भको बाबाविश्वनाथएवंमाताअन्नपूर्णाकीकृपा बतातेहुएसभीकेप्रतिमंगलकामनाव्यक्तकी।वरिष्ठसदस्यडॉवीरेंद्रसिंहनेप्रधानमंत्रीनरेन्द्रमोदीकेगंगानिर्मलीकरणएवंस्वच्छ्ताहेतुकियेगए प्रयासोंकोआगेबढ़ाने  मेंसुबहएबनारस केसहयोगकासंकल्पदोहराया।प्रमुखरूपसेकोषाध्यक्षसुनीलशुक्ल,रमेशतिवारी,मंजूमिश्रा,शास्त्रीयगायकपंदेवाशीषडे,उदयप्रतापसिंहकृष्णमोहन,अभयश्रीवास्तव,विनयतिवारी,मित्तलसाहनीअतुलसिंह,आदि उपस्थितथे।इसअवसरपरकार्यक्रमस्थलपरआश्रयसेवासंस्थानद्वारानिश्‍शुल्कमास्कऔरसैनिटाइजरकिव्यवस्थानित्यआनेवालेलोगोंकेलिएकीजाएगी।