शारीरिक शिक्षा

सुधीरदीक्षित,नवाबगंज,(फर्रुखाबाद)

'मजहबनहींसिखाता,आपसमेंबैररखना'कुछऐसीहीमंशारहीहोगी20वर्षीयजानमोहम्मदकीजबउनमेंशिवभक्तिजागी।आज45वर्षबाद65सालकीउम्रमेंभीउनकामनशिवपूजनमेंहीरमाहै।अयोध्यामामलेमेंसुप्रीमकोर्टकाफैसलाआनेपरसाथियोंसंगमिलकरउन्होंनेमंदिरमेंरामनामसंकीर्तनकिया।

नवाबगंजब्लाकक्षेत्रकेगांवबरतलनिवासी65वर्षीयजानमोहम्मदउर्फजानवीरखांकोयुवावस्थामेंहीधार्मिकदूरियांरासनहींआईं।उन्हें45वर्षपहलेशिवभक्तिकीऐसीधुनलगीकिवहभगवानशिवकेपुजारीबनगए।गांवकेशिवमंदिरमेंवहसुबह-शामपूजा-अर्चनाकरनेलगे।ग्रामीणोंनेभीपूरासहयोगकिया।शनिवारकोअयोध्यामामलेमेंसुप्रीमकोर्टकाफैसलाआनेपरजानमोहम्मदनेनवाबगंज-मंझनामार्गपरस्थितब्रह्मदेवमंदिरमेंहारमोनियमबजाकररामनामकासंकीर्तनकिया।उनकेसाथढोलक,मंजीरा,झींगाआदिबाध्ययंत्रोंकोबजानेवालेसाथियोंनेभीसहयोगकिया।जानमोहम्मदप्रत्येकमंगलवारवशनिवारकोमंदिरमेंभजन-कीर्तनकरतेहैं।जानमोहम्मदईद,बकरीदकेसाथहोली,दीपावलीभीपूरेउल्लाससेमनातेहैं।उनकेछोटेभाईअख्तरअलीवअन्यपरिवारीजननेभीकभीइससेएतिराजनहींकिया।जानमोहम्मदकोमांसाहारसेपरहेजहै।वहकहतेहैंकिशिवकीआराधनासेमनकोशांतिमिलतीहै।शिवकृपासेउनकेबिगड़ेकार्यभीबनतेहैं।

By Cooper