शारीरिक शिक्षा

नईदिल्लीसुप्रीमकोर्टकेअगलेमुख्यन्यायाधीशकेनामपरचलरहीअटकलोंकेबीचवर्तमानमुख्यन्यायाधीशदीपकमिश्रानेअपनेउत्तराधिकारीकेलिएजस्टिसरंजनगोगोईकानामसरकारकोभेजाहै।केंद्रसरकारअगरगोगोईकेनामपरमुहरलगातीहै,तोजस्टिसगोगोईअक्टूबरकेपहलेहफ्तेमेंशपथलेसकतेहैं।इसकेबादउनकाकार्यकाल17नवंबर2019तकरहेगा।बतादेंकिचीफजस्टिसमिश्राकेबादजस्टिसगोगोईसुप्रीमकोर्टमेंवरिष्ठताक्रममेंदूसरेनंबरपरहैं।इससेपहलेकानूनमंत्रालयनेचीफजस्टिसऑफइंडियाकोअधिकारिकतौरपरपत्रलिखकरअपनाउत्तराधिकारीतलाशनेकेलिएकहाथा।परंपराकेअनुसार,सुप्रीमकोर्टकेसबसेसीनियरजजकोचीफजस्टिसऑफइंडियाबनायाजाताहै।ऐसेमेंवरिष्ठताकेआधारपरजस्टिसगोगोईकानामसबसेआगेहै।जस्टिसरंजनगोगोईको28फरवरी2001मेंगुवाहाटीहाईकोर्टकाजजबनायागयाथा।इसकेबाद12फरवरी2011कोउन्हेंपंजाबऔरहरियाणाहाईकोर्टकामुख्यन्यायधीशबनायागया।इसकेबादअप्रैल2012मेंउन्हेंसुप्रीमकोर्टमेंलायागया।जस्टिसगोगोईअसमकेरहनेवालेहैं।वहइससमयएनसीआर(नैशनलरजिस्टरऑफसिटिजन)अपडेटकरनेकीप्रक्रियाकीमॉनिटरिंगकररहेहैं।पिछलेसालसुप्रीमकोर्टकीप्रणालीपरसवालउठानेवालेजजोंमेंजस्टिसरंजनगोगोईभीशामिलथे।उन्होंनेसुप्रीमकोर्टकेप्रशासनऔरन्यायपालिकाकीस्वतंत्रतापरसवालउठायाथा।वर्तमानसीजेआईकोलेनेहैंअहमफैसलेसीजेआईमिश्राकोऐसेकईअहममामलोंमेंआदेशजारीकरनाहै,जिनकापब्लिकपरगहराअसरहोगा।उनमेंसेएकआधारकामामलाभीहै।इसमेंकोर्टकोफैसलादेनाहैकिक्यासरकारीआधारस्कीमसंवैधानिकरूपसेवैधहै।सामाजिककार्यकर्ताओंकाकहनाहैकियहस्कीमनागरिककेउसनिजताकेअधिकारपरबेजापाबंदियांलगानेवालीहै,जिसेसुप्रीमकोर्टमूलअधिकारदेचुकाहै।सरकारऔरआधारसमर्थकोंकाकहनाहैकियहस्कीमगरीबोंकोमिलनेवालीसब्सिडीमेंघपलारोकनेकेलिएजरूरीहै।केंद्रसरकारइसकाइस्तेमालअसममेंपड़ोसीदेशकेघुसपैठियोंकीपहचानकेलिएवहांचलरहेएनआरसीअपडेशनप्रोग्राममेंभीकरनाचाहतीहै।इनमामलोंमेंबहुतकुछचीफजस्टिसकेफैसलेपरनिर्भरकरताहै।चीफजस्टिसकेरलकेसबरीमालामंदिरमेंखासउम्रसेज्यादाकीमहिलाओंकेप्रवेशपरलगीपाबंदीमामलेकीभीसुनवाईकरेंगे।उन्हेंअडल्टरीकानूनोंकीवैधानिकतासेजुड़ेमामलेमेंभीफैसलादेनाहैऔरदेशमेंमाइनॉरिटीएलजीबीटीसमुदायकीकिस्मतकाफैसलाकरनाहै।चीफजस्टिसमिश्रानेइसमामलेमेंअपनाफैसलासुरक्षितरखाहुआहै।अदालतसेबालिगोंकेबीचस्वेच्छासेबननेवालेसभीतरहकेयौनसंबंधोंकोनसिर्फवैधतादेनेकाअनुरोधकियागयाहैबल्कियहभीकहागयाहैकिउन्हेंइज्जतकेसाथजीनेकाअधिकारमिलनाचाहिए।

By Cook