शारीरिक शिक्षा

जागरणसंवाददाता,सिरसा

हरियाणापंजाबसेजबअलगप्रदेशबनाथा।उससमयजिलेमेंस्कूलोंकीसंख्याबहुतकमथी।जिलेमें1957केअंदरराजकीयनेशनलकॉलेजबनाथा।जिसमेंदूसरेजिलोंसेभीछात्रपढ़नेकेलिएपहुंचतेथे।शिक्षाकेक्षेत्रमेंपिछड़ासिरसाजिलेनेदोदशकमेंप्रगतिकीहै।सिरसाअबएकओरजहांशिक्षाहबबननेलगाहै।सिरसामेंवर्ष2002मेंचौधरीदेवीलालविश्वविद्यालयबना।जिलेमेंविश्वविद्यालयबननेसेशिक्षामेंबहुतसुधारआयाहै।इससेपहलेसिरसाशिक्षाकेक्षेत्रमेंकाफीपिछड़ाहुआमानाजातारहाहै।इसकेबादजननायकचौधरीदेवीलालविद्यापीठकेअलावाअनेककॉलेजखोलेगयेहैं।

पहलेबाहरजाकरलेतेथेशिक्षा

गांवनाथूसरीकलांनिवासीपूर्वसरपंचनिहाल¨सहकासनियांनेबतायाकिबच्चेउच्चशिक्षाप्राप्तकरनेकेलिएपहलेबाहरजातेथे।गांवमेंस्कूलपांचवींकक्षातकहोतेथे।इसकेबादपढ़ाईकरनेवालेछात्रोंकोपैदलहीस्कूलपहुंचनापड़ताथा।क्योंकिउससमयसाधनबहुतकमथे।इसकेबादजैसेजैसेविकासहुआ।शिक्षामेंभीसुधारहुआ।अबजिलेमेंस्कूलोंकीसंख्या

विश्वविद्यालय1

राजकीयप्राथमिकस्कूल523

राजकीयमिडलस्कूल123

राजकीयहाईस्कूल105

राजकीयवरिष्ठमाध्यमिकस्कूल74

जिलेमेंशिक्षाकेअंदरकाफीसुधारहुआहै।गांवस्तरपरस्कूलोंकीसंख्यापहलेबहुतकमथी।अबगांवस्तरपर12वींकक्षातकस्कूलबनगयेहैं।वहींविश्वविद्यालयवकॉलेजबननेसेछात्रोंकोकाफीफायदामिलरहाहै।

डा.यज्ञदतवर्मा,जिलाशिक्षाअधिकारी

By Dale