शारीरिक शिक्षा

छपरा।जगदमकॉलेजनेअपनेकुलदेवतास्व.प्रभुनाथ¨सह(मंत्रीजी)कीजयंतीसहकॉलेजकास्थापनादिवससमारोहमंगलवारकोसमारोहपूर्वकमनाया।समारोहकाविधिवतउद्धाटनदीपप्रज्वलितकरजयप्रकाशविश्वविद्यालयकेकुलपतिप्रो.हरिकेश¨सह,प्रतिकुलपतिप्रो.डा.अशोककुमारझाजगदमकॉलेजकेपूर्वप्राचार्यप्रो.हरिकिशोरपांडेयएवंप्रो.कृष्णकुमारद्विवेदीनेसंयुक्तरूपसेकिया।जयंतीसमारोहकोसंबोधितकरतेहुएकुलपतिप्रो.हरिकेश¨सहनेकहाकिस्व.प्रभुनाथ¨सहशिक्षाप्रेमीथे।उन्हेंसमाजकेसहयोगसेकॉलेजकीस्थापनाकीथी।वर्तमानसमयमेंविश्वविद्यालयएवंकॉलेजमेंआएगिरावटपरकुलपतिने¨चताव्यक्तकरतेहुएकहाकिविश्वविद्यालय-कॉलेजमेंपठन-पाठनछोड़करसभीकार्यहोरहेहै।जिसमेंसुधारकेलिएसमाजकोआगेआनाहोगा।प्रतिकुलपतिडा.अशोककुमारझानेकहाकिस्वप्रभुनाथ¨सहजननायकवशिक्षाप्रेमीथी।वेहमेशादुखियोंवगरीबोंकीसेवाकेलिएतत्पररहतेथे।मंत्रीजीएकबेदागराजनीतिज्ञथे।वे1921मेंगांधीजीकेसहयोगआंदोलनमेंशामिलहुएऔरपढ़ाईकाबहिष्कारकरअपनीगिरफ्तारीदिए।वे1930-32मेंसविनयअवज्ञाआंदोलनऔर1942केभारतछोड़ोआंदोलनमेंपुन.जेलगये।वेराजेंद्रकॉलेजछपराकेशासीनिकायकेसचिवभीरहें।उन्हींकेनामपरटॉड़ीग्रामकेसमीपबसीनईबस्तीकानामप्रभुनाथनगररखागया।पूर्वप्राचार्यडा.कृष्णकुमारद्विवेदीनेसमारोहकोसंबोधितकरतेहुएकहाकिवेराजनीतिमेंरहतेहुएभीहमेशाआमलोगोंकेनजदीकरहे।अपनेजीवनकेअंतिमसमयतकजनसेवाकरतेरहे।जगदमकॉलेजकेस्थापनाकेलिएवेजगदंबाबाबूसेएकलाखरूपयेकासहयोगलियाथा।वेपटनाविश्वविद्यालयपटनाके¨सडिकेटकेसदस्यभीरहे।वेबालिकाशिक्षाकोबढ़ावदेनेकाहमेशाप्रयासकिए।स्वागतभाषणमेंप्राचार्यडा.कृष्णकुमारबैठानेकहाकिजगदमकॉलेजकाचौतरफाविकासहोरहाहै।यहांकेएनएसएसवएनसीसीकैडेटोंनेकॉलेजकानामरोशनकियाहै।कॉलेजमेंजल्दहीनयेकोर्सकीशुरूआतकीजाएगी।समारोहमेंकॉलेजकीछात्र-छात्राओंनेरंगारंगसांस्कृतिककार्यक्रमप्रस्तुतकिया।छात्राकुमारीअनिषानेआजमधुबनमेंमीरानाचे...गीतपरकथकप्रस्तुतकरलोगोंकोझूमादिया।स्वागतगानआपकेगामनसे..एनएसएसकैडेटप्रियंकाकुमारी,गिन्नीकुमारी,कुमारीपंखुरी,¨मकीकुमारी,¨रकीकुमारी,ममताकुमारीनेप्रस्तुतकिया।जिसमेंतबलापरमकेश्वरपंडित,हरमुनियमपरसुजीतकुमारनेसंगतकिया।उसकेपूर्वमुख्यअतिथिकोएनसीसीकैडेटविकासकुमार¨सह,प्रखर¨सह,अमृतकुमार,राजाकुमारनेगार्डआफऑनरदिया।कार्यक्रमकासंचालनवधन्यवादज्ञापनपूर्वसिनेटसदस्यब्रजकिशोर¨सहनेकी।इसमौकेपरडा.विश्वामित्रपांडेयडा.केदारप्रसाद,डा.सुनीलकुमारवर्मा,डा.रामपूजनयादव,डा.अमरनाथप्रसद,डा.र¨वदकुमार¨सह,चंदनकुमार¨सह,मंटूकुमारयादवसमेतअन्यगणमान्यलोगमौजूदथे।

By Cooper