शारीरिक शिक्षा

दरभंगा।सभीभारतीयदेशजवैज्ञानिकहैं।आजतकहमनेंबगैरप्रयोगशालाकेकईशोधवआविष्कारकिएहैं।भारतविश्वकासबसेबड़ालोकतंत्रहोनेकेसाथ-साथइसकीसबसेपुरानीसभ्यताहै।शोधकेलिएशिक्षकशोधकाविषयनहींदेते,बल्किछात्रोंकोखुदप्रकृतिएवंवातावरणसेविषयचुननाचाहिए।नएबोतलमेंपुरानीदवाईभरकरआपडिग्रीतोपाजाओगे,लेकिननौकरीनहींपाओगे,जबतकआपउद्यमकर्ताएवंखोजकर्तानहींबनोगे।विश्वविद्यालयकेइतिहासमेंपहलीबारपीएचडीकोर्सवर्ककररहेछात्रोंकेप्रेरणवर्गकाउदघाटनकरतेहुएकुलाधिपतिकेशिक्षासलाहकारपद्मश्रीप्रो.रणवीरचंद्रसोबतीनेयहबातेंकही।अध्यक्षताकरतेहुएविश्वविद्यालयकेकुलपतिप्रो.एसकेसिंहनेकहाकिसूचनाएवंज्ञानतबतकपूर्णनहींहेगा,जबतकउसकेसाथप्रज्ञतानहींहो।हमेंसृजनात्मकवरचनात्मकहोनाचाहिए।पूर्वगामी,सृजनात्मकताएवंप्रेरणाकीसीमास्नातक,स्नातकोत्तर,पीएचडीछात्रोंकेसाथ-साथफैकल्टीमेंबरमेंहोनीचाहिए।छात्रोंकोकहाकिकभीभीअपनेगुरुओंसेपारस्परिकविचार-विमर्शकाअवसरचूकनानहींचाहिए।सत्रकेआरंभमेंअतिथियोंकामिथिलापरंपरानुसारस्वागतकियागया।स्वागतभाषणकरतेहुएप्रतिकुलपतिप्रो.जयगोपालनेकहाकिकुलपतिप्रो.सिंहकेनिर्देशनमेंविश्वविद्यालयनेकईलकीरेंखिचीहै,जिसमेंसत्रनियमितकरनाभीहै।कार्यक्रमकेबारेमेंसंक्षिप्तपरिचयउपपरीक्षानियंत्रकप्रथमप्रो.अरुणकुमारसिंहनेदिया।परीक्षानियंत्रकडॉ.अशोककुमारमेहतानेंपीएचडीकोर्सवर्ककरनेवालेछात्रोंकीसंख्या251कोशुभमानतेहुएउनकेउज्जवलभविष्यकीकामनाकी।धन्यवादज्ञापनकुलसचिवकर्नलनिशीथकुमाररायनेएवंसंचालनसीसीडीसीप्रो.मुनेश्वरयादवनेकिया।दूसरेसत्रमेंअध्यक्षछात्रकल्याणप्रो.रतनकुमारचौधरीनेपावरप्वाइंटकेजरिएशोधार्थियोंकोपीएचडीरेगुलेशन2016केप्रत्येकबिदुओंपरबारिकीसेजानकारीदी।आइक्यूएसीसमन्वयकप्रो.बीबीएलदासनेरिसर्चमेथोडोलॉजीपरव्याख्यानप्रस्तुतकिया।

लोकसभाचुनावऔरक्रिकेटसेसंबंधितअपडेटपानेकेलिएडाउनलोडकरेंजागरणएप